1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, आंदोलन को तेज करने के लिए पांच सितंबर को करेंगे बड़ी पंचायत, नहीं लड़ेंगे चुनाव, लेकिन देंगे…

राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, आंदोलन को तेज करने के लिए पांच सितंबर को करेंगे बड़ी पंचायत, नहीं लड़ेंगे चुनाव, लेकिन देंगे…

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने सोमवार को बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को और तेज करने के लिए पांच सितंबर को एक बड़ी पंचायत करेंगे। जहां आंदोलन के लिए आगे की रणनीति बनाई जाएगी। राकेश टिकैत ने अटकलों पर विराम लगाते हुए एक बार फिर कहा कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन वोट की चोट देंगे। गौरतलब है कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर कई महीनों से किसानों का प्रदर्शन जारी है।

वहीं, इससे पहले किसान नेता राकेश टिकैत की यूएन जाने वाली बात को लेकर विवाद हो गया था, हालांकि राकेश टिकैत ने इस बयान पर सफाई दे दी। उन्होंने कहा है कि मैंने ये नहीं कहा था कि कृषि कानूनों को लेकर यूएन (संयुक्त राष्ट्र) जाएंगे। हमने कहा था कि 26 जनवरी की घटना की निष्पक्ष जांच हो जाए। अगर यहां की एजेंसी जांच नहीं कर रही है तो क्या हम यूएन में जाएं?

गलतफहमी में भाजपा

राकेश टिकैत ने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा गलतफहमी में है कि यह उसकी सरकार है। वोट मांगते समय कहा कि अबकी बार, मोदी सरकार। लेकिन भाजपा यह नहीं समझ रही है कि यह उनकी नहीं मोदी सरकार है। उन्होंने कब्जा कर लिया है, इनके बड़े नेताओं को घर बिठा रखा है, जिन्होंने पार्टी बनाई वह घरों में कैद हैं, कोई बयान भी नहीं देता। इन्होंने पूरे देश और सिस्टम पर कब्जा कर लिया है, अघोषित इमरजेंसी लगी हुई है। आधा देश बिक चुका है, आधा तीन साल में बिक जाएगा। देश की जनता को अब खड़ा होना चाहिए। यूपी के जिला परिषद चुनाव में नंगा नाच हुआ। अब जो कहीं से भी जीता हो, उसे भाजपा में शामिल करवा रहे हैं।

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार कान खोल कर सुन ले, चार लाख ट्रैक्टर दिल्ली गए थे। वे अफगानिस्तान के नहीं थे, सारे हिंदुस्तान के ही थे। अगर जरूरत पड़ी तो किसान फिर दिल्ली जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार बातचीत करना चाहती है तो हम तैयार हैं। 22 तारीख से हमारा दिल्ली जाने का कार्यक्रम रहेगा। 22 जुलाई से संसद सत्र शुरू होगा। हमारे 200 लोग संसद के पास धरना देने जाएंगे।

बता दें कि भाकियू नेता राकेश टिकैत को मिल रही लगातार धमकियों के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है। शासन के आदेश पर मुजफ्फरनगर पुलिस लाइन से उन्हें दो और गनर उपलब्ध कराए गए हैं। अब तीन पुलिसकर्मी उनकी सुरक्षा में तैनात रहेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads