Home उत्तराखंड 2 हफ्ते पहले हो जायेगा कुम्भ खत्म! कोरोना से बेपरवाह कहता सीएम तीरथ का ये ट्वीट

2 हफ्ते पहले हो जायेगा कुम्भ खत्म! कोरोना से बेपरवाह कहता सीएम तीरथ का ये ट्वीट

8 second read
0
2

रिपोर्ट: नंदनी तोदी
हरिद्वार: उत्तराखंड के हरिद्वार में चल रहे महाकुम्भ में विश्वास और आस्था की डुबकी लगाते लगाते कोरोना के मामले भी लगातार बढ़ रहे हैं। अब इसी को लेकर कई बातें सामने आ रही है। आशंका जताई जा रही है, कुम्भ मेला दो हफ्ते पहले ख़त्म हो जायेगा। हालाँकि सीएम के ट्वीट को देखकर ऐसा नहीं लग रहा है।

दरअसल, कुम्भ में उमड़ती भीड़ चिंता का विषय बन गया है। जहा एक तरफ सरकार सामाजिक दूरी बनाये रखने की अपील लगातार कर रही है, वही कुम्भ में आस्था की भीड़ एक गंभीर विष बन चूका है। इसी को लेकर खबर थी कि राज्य सरकार और धर्मी नेताओ के बीच बातचीत हुई, जिसमे कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्द्यनजर कुम्भ दो हफ्ते पहले ही ख़त्म हो जायेगा। गंगा नदी में हो रहे ये धार्मिक कार्यक्रम में हज़ारो की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हुए है जो प्रशासन के लिए कोरोना के बढ़ते मामले को चिंता बढ़ा रही है। लेकिन मुख्यमंत्री के ट्वीट से साफ़ लग रहा है कि कुम्भ अपने निर्धारित समय से पहले ख़त्म नहीं होगा।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने संकेत देते हुए ट्वीट किया है कि- “भारत सरकार द्वारा निर्धारित की गई कोरोना की गाइड लाइन का अनुपालन करते हुए राज्य सरकार ने तीनों शाही स्नान सफलतापूर्वक संपन्न करवाए हैं। मुझे विश्वास है कि अंतिम शाही स्नान भी सफलतापूर्वक संपन्न होगा। श्रद्धालुओं और संतों को कुंभ के दौरान कोई असुविधा न हो, इसके मद्देनजर राज्य सरकार द्वारा पुख्ता इंतजाम किए गए है।”

बंगाल चुनाव और महाकुम्भ में बढ़ती संख्या के बीच ये क्यास लगाए जा रहे थे कि महाकुंभ के तीन शाही स्नान के बाद इसे चौथे शाही स्नान जो कि 27 अप्रैल को है से पहले ही संपन्न कर दिया जाएगा। हालाँकि अब ये साफ़ है कि ऐसा नहीं होगा।

आपको बता दें, उत्तराखंड में बीते 24 घंटों में 1953 पॉजिटिव केस सामने आये है, जबकि 13 की मौत हो चुकी है। वही हरिद्वार में बीते 24 घंटो में 525 नए मामले सामने आए हैं, और 2 की मौत हो चुकी है।

बता दें, इससे पहले मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत कह चुके हैं कि कोरोना खुले में नहीं फैलता है। साथ ही कहा कि कोरोना गंगा में बह जाएगा।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.