1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. झारखंड : सरकार को बेचा था 80 क्विंटल धान, नहीं मिले पैसे गई किसान की जान, केंद्रीय मंत्री ने पूछा- मौत के लिए जिम्मेदार कौन?

झारखंड : सरकार को बेचा था 80 क्विंटल धान, नहीं मिले पैसे गई किसान की जान, केंद्रीय मंत्री ने पूछा- मौत के लिए जिम्मेदार कौन?

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : झारखंड में एक किसान ने सोरेन सरकार को 80 क्विंटल धान बेचे थे। लेकिन उसके पैसों का भुगतान नहीं किया गया। अपने फसल की भुगतान के लिए वह लगातार अधिकारियों के ऑफिस के चक्कर काटता रहा,  लेकिन उसे उसकी मेहनत के पैसे नहीं मिले। ऑफिस की चक्कर लगाते-लगाते किसान बीमार हो गया, लेकिन पैसा नहीं मिलने मिलने के कारण वे अपनी बीमारी का समुचित इलाज नहीं करा पाएं और उनकी की मौत हो गयी।

बता दें कि यह मामला झारखंड में सरायकेला-खरसावां जिले में गम्हरिया प्रखंड क्षेत्र में आने वाले सिंधुकोपा गांव का है, जहां का रहने वाला किसान अरुण महतो ने सरकार को 80 क्विंटल धान बेचा था।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने इस मौत पर सवाल उठाते हुए पूछा कि- मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बताएं, यह क्या हो रहा है। इस मौत के लिए जिम्मेदार कौन है? उस पर क्या कार्रवाई हो रही है।

किसान की मंगलवार को टीएमएच में हो गई मौत

जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने बताया कि सिंधुकोपा गांव के किसान अरुण महतो की मौत हो गयी। अरुण महतो ने 80 क्विंटल धान बेचा था, उसकी कीमत के लिए लैम्पस में चक्कर लगाते-लगाते बीमार पड़ गये। उसके पास इलाज के पैसे नहीं थे। जब बीमारी गंभीर हो गयी, तो घर वालों ने कर्जा लेकर उन्हें टीएमएच में भर्ती कराया। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। मंगलवार को उन्होंने अंतिम सांस ली।

पिछले एक साल से धान किसानों को भुगतान नहीं कर रही सरकार: अर्जुन मुंडा

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि पिछले एक साल से किसानों के धान क्रय करने के बाद सरकार उन्हें भुगतान नहीं कर रही है। किसानों के इस मुद्दे को उठाने पर राज्य सरकार पूर्वाग्रह से ग्रस्त होकर भाजपा नेताओं के खिलाफ केस दर्ज कराती है, सरकार को इन अन्नदाताओं के दर्द से कोई लेना-देना नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads