1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. परिवार के सामने ही हुई 2 बच्चियों की दर्दनाक मौत, दूर खड़े रहे माता-पिता चाहकर भी कुछ नहीं कर सके…

परिवार के सामने ही हुई 2 बच्चियों की दर्दनाक मौत, दूर खड़े रहे माता-पिता चाहकर भी कुछ नहीं कर सके…

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले से एक दिल दहला देने वाले हादसे की खबर सामन आई है। जहां एक ट्रक ड्राइवर ने दो बहनों को टक्कर मार मौत के घाट उतार दिया। एक्सीडेंट इतना खतरनाक था कि दोनों ने मौके पर दी दम तोड़ दिया

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

लखीमपुर: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले से एक दिल दहला देने वाले हादसे की खबर सामन आई है। जहां एक ट्रक ड्राइवर ने दो बहनों को टक्कर मार मौत के घाट उतार दिया। एक्सीडेंट इतना खतरनाक था कि दोनों ने मौके पर दी दम तोड़ दिया। वहीं एक गंभीर रुप से घायल हो गया। हैरानी की बात यह है कि यह हादसा पूरे परिवार की आंखों के सामने हुआ। वह दूर खेड़ होकर यह भयानक मंजर देखते रहे, लेकिन चाहकर बेटियों को नहीं बचा सके।

बहनों की मौत…भाई लड़ रहा जिंदगी की जंग

दरअसल, यह भीषण एक्सीडेंट लखीमपुर-अलीगंज रोड पर सोमवार शाम में हुआ। जहां एक अनियंत्रित ट्रक ने स्कूटी सवार तीन भाई-बहनों को टक्कर मार दी। हादसे में दो बहनें अवंतिका रस्तोगी और उन्नति रस्तोगी की जान तो नहीं बची, लेकिन स्कूटी चलाने वाले भाई विवेक रस्तोगी बच गया। हालांकि उसकी हालत गंभीर है।

बेटियों के शव गोद में रख बिलखते रहे माता-पिता

बता दें कि रस्तोगी परिवार देवकली में बने प्राचीन शिव मंदिर के दर्शन करने के लिए जा रहा था। जिसमें दो बहनें और भाई स्कूटी पर थे। तो वहीं माता-पिता और अन्य परिजन एक ऑटो में पीछे-पीछे आ रहे थे। जैसे स्कूटी मथना चौराहे के पास पहुंची तो सामने से तेज रफ्तार में आ रहे ट्रक उनको रौंदते हुए चला गया। हैरानी की बात यह है कि यह हादसा परिवार की आंखों के सामने हुआ। क्योंकि वह पीछे चल रहे ऑटो में सवार थे। वह जब तक अपनी बेटियों को बचा पाते उससे पहले ही उनकी मौत हो गई। माता-पिता खून से लथपत बेटियों के शव को गोद में रख बिलखते रहे।

घर से मौत बुलाकर ले गई मंदिर के बाहने

बता दें कि हादसे में जान गंवाने वाली दोनों बहनें होनहार थीं और इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहीं थीं। अवंतिका रस्तोगी लखनऊ के बंसल यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग की छात्रा थी, जबकि उन्नति रस्तोगी बरेली कॉलजे से पढ़ाई कर रही थी। दोनों के कहने पर ही परिवार मंदिर जाने के लिए निकले थे। लेकिन उन्हें क्या पता था कि मंदिर तो एक बहाना है उन्हें मौत बुला रही है।

भाई की इसलिए बच गई जान

पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ट्रक को जब्त कर ड्राइवर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। आरोपी चालक भागने में कामयाब हो गया। हादसा इतना भयानक था कि ट्रक की टक्कर से स्कूटी के परखच्चे उड़ गए। वहीं तीनों उछलकर सड़क पर जा गिरे। बताया जाता है कि स्कूटी चालक विवेक हेलमेट पहने हुआ था, इसलिए उसकी जान बच गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...