Home उत्तर प्रदेश बाराबंकी में ग्रामीण ने कलेक्ट्रेट में खाया जहर, हालत गंभीर, पीड़ित ने जिम्मेदारों पर लगाए ये आरोप

बाराबंकी में ग्रामीण ने कलेक्ट्रेट में खाया जहर, हालत गंभीर, पीड़ित ने जिम्मेदारों पर लगाए ये आरोप

0 second read
0
5

बाराबंकी:  बाराबंकी जिले में फतेहपुर कोतवाली क्षेत्र के गांव खासी सराय निवासी विक्रम पुत्र देवीदीन गौतम ने गुरुवार की सुबह कलेक्ट्रेट में विषाक्त पदार्थ (चूहा मार) निगल लिया। मामला संज्ञान में आने पर तहसीलदार व पुलिस ने उसे आनन-फानन जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसका उपचार किया जा रहा है। मौके पर तहसीलदार नवाबगंज, एलआईयू व पुलिस मौजूद रही। ग्रामीण जमीन कब्जा होने से परेशान था। पीड़ित ने स्थानीय पुलिस पर शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं किए जाने का आरोप लगाया है।

जिलाधिकारी के यहां लेकर आया था फरियाद: विक्रम दंबगों द्वारा उसकी सहन की जमीन पर कब्जा करने की शिकायत बुधवार को एडीएम कार्यालय में की थी। गुरुवार को वह कार्रवाई की जानकारी लेने सुबह पौने दस बजे ही वह भतीजे मिश्रीलाल के साथ कलेक्ट्रेट पहुंच गया था। एडीएम कार्यालय पर पहुंचा तो होमगार्ड ने कहा कि अभी साहब नहीं है। उसने अपनी शिकायत को लेकर जानकारी चाही तो उसे कुछ नहीं बताया गया।

तैनात कर्मचारी बोले कि अधिकारी आने पर ही पता चलेगा। विक्रम भतीजे के साथ वहां से चला गया। करीब साढ़े ग्यारह बजे वह दोबारा एडीएम कार्यालय पहुंचा। होमगार्ड ने पूछा शिकायती पत्र लाए हो। इस पर उसने जवाब दिया कि अब कोई शिकायत नहीं देंगे, हम मरेंगे इसलिए चूहा मार खा आए हैं। इतना सुनते ही होमगार्ड के होश उड़ गए। उसने उच्चाधिकारियों को घटना की जानकारी दी। इसके बाद तहसीलदार सदर मौके पर पहुंचे और पुलिस की मदद से उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

पीड़ित विक्रम ने बताया कि घर के सामने उसकी सहन की जमीन हैं। इसी जमीन से उसके आने जाने का रास्ता है। पड़ोसी सर्वेश, मयाराम व रमेश उसकी सहन की जमीन पर कब्जा कर घर बनवा रहे है। दरवाजा भी सहन की ओर खोल दिया है। छत डालने के लिए शटरिंग भी लगा दी। जिससे उसके आने जाने का रास्ता भी सकरा हो गया। इस मामले की कई बार फतेहपुर थाने में शिकायत की गई लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। पीड़िता का कहना है कि एसपी व एडीएम के यहां भी शिकायत की थी। लेकिन सुनवाई नहीं हुई।

दरोगा पर पैसा मांगने का आरोप: पीडि़त विक्रम ने बताया कि शिकायत पर जांच के लिए दरोगा गए थे। उन्होंने बताया कि विपक्षी ने पैसा दिया है। तुम भी पैसा दो मामले को खत्म करा दिया जाए। विक्रम ने कहा कि हम गरीब हैं रुपया कहां से लाएं, इसलिए हमारी शिकायत पर थाने में कोई सुनवाई नहीं हुई।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.