Home उत्तर प्रदेश रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं होने से अल्ट्रासाउण्ड बंद

रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं होने से अल्ट्रासाउण्ड बंद

4 second read
0
3

मऊ: स्वास्थ्य विभाग व सरकार के लम्बे-चौड़े दावे के बावजूद जिला संयुक्त चिकित्सालय में चिकित्सकीय व्यवस्था काफी चरमरा गया है। एक तरफ जहां रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं होने के कारण अल्ट्रासाउण्ड नहीं हो पा रहा है, वहीं दूसरी तरफ अस्पताल के चारों तरफ गंदगी का साम्राज्य फैला हुआ है। ग्रामीण अंचलों के दूर-दराज से आने वाले मरीजों व तीमारदारों मजबरी में बाहर से अल्ट्रासाउंड करा रहे हैं।

वर्तमान समय में जिला अस्पताल में चिकित्सकीय व्यवस्था चरमरा गयी है। हालत यह है कि लगभग डेढ़ साल से भी अधिक समय से जिला संयुक्त चिकित्सालय में रेडियोलाजिस्ट की तैनाती नहीं होने के कारण मरीजों का अल्ट्रासाउण्ड नहीं हो पा रहा है। इसके कारण मरीजों व तीमारदारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी दूर-दराज के ग्रामीण अंचलों से आने वाले मरीजों व तीमारदारों को उठानी पड़ती है। बुधवार को जिला अस्पताल में अल्ट्रासाण्ड कराने आए मरीज कोपागंज निवासी राजेश विश्वकर्मा, इंदारा निवासी श्याम सुन्दर प्रजापति, तेतरी देवी, लिलावती ने बताया कि जिला अस्पताल में दुव्र्यवस्था के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। जबकि सरकार व स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं के दुरुस्त करने का लम्बा-चौड़ा दावा किया जाता है। वहीं दूसरी तरफ अस्पताल परिसर के चारों तरफ गंदगी के कारण मरीजों व तीमारदारों को अस्पताल में आने-जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। जबकि वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकार द्वारा सख्ती के साथ निर्देशित किया गया है कि अस्पतालों में साफ-सफाई की व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाए। बावजूद इसके जिला अस्पताल में साफ-सफाई के मुकम्मल इंतजाम नहीं किए गए हैं।

उच्चाधिकारियों को भेजा गया है पत्र: सीएमएस

मऊ। जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. बृज कुमार ने दावा किया है कि जिला संयुक्त चिकित्सालय में चिकित्सकीय सेवा काफी मुकम्मल है। जबकि रेडियोलाजिस्ट की तैनाती के लिए उच्चाधिकारियों को पत्र प्रेषित करके पूरी स्थिति से अवगत करा दिया गया है। जैसे ही अस्पताल में रेडियोलाजिस्ट की तैनाती होग, सामान्य तरीके से अल्ट्रासाउण्ड शुरु कर दिया जाएगा।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.