1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. यूपी : कार्रवाई के विरोध में धरने पर बैठे BJP के पूर्व विधायक गोपाल काली

यूपी : कार्रवाई के विरोध में धरने पर बैठे BJP के पूर्व विधायक गोपाल काली

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

मेरठ: लाइसेंसी बंदूक से फाररिंग कर दिवाली मनाने वाले भाजपा के पूर्व विधायक गोपाल काली अपनी ही पार्टी की सरकार में धरने पर बैठ गए है। काली ने पुलिस कार्रवाही का विरोध करते हुए मामले को राजनीति से प्रेरित बताया है। अंबेडकर चौराहे पर धरने पर बैठे पूर्व विधायक गोपाल काली ने बंदूक के कारतूस दिखाते हुए कहा कि न्याय पाना हर व्यक्ति का अधिकार है। वे भी न्याय पाने के लिए ही धरने पर बैठे हैं।

गोपाल काली ने कहा कि दीपावली की रात उन्होंने बंदरों को भगाने के लिए फायरिंग की थी। उन पर हर्ष फायरिंग के आरोप बेबुनियाद हैं। हालांकि काली के इस तर्क में बिलकुल भी दम नजर नही आ रहा है।

क्योकी वारयल वीडियो में स्पष्ट देखा जा सकता है कि वो दिवाली की रात कैसे लाइसेंसी बंदूक से हर्ष फायरिंग कर रहें है।

आपको बता दे कि दिवाली रात हस्तिनापुर से BJP के पूर्व विधायक गोपाल काली ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से जमकर फायरिंग की थी। यही नही इस पूरी घटना का वीडियों उन्होने अपने बेटे से शूट कराया जिसे बाद में उन्होने अपनी फेसबुक ID पर शेयर किया था।

इसी मामले में पुलिस ने गोपाल काली का लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू करते हुए बंदूक थाने में जमा कराने के नोटिस जारी किया है। लेकिन काली ने लाइसेंस निरस्त होने से बचने के लिए नोटिस से पहले ही मवाना में एक शस्त्र की दुकान पर बंदूक जमा कराकर पुलिस को पर्ची थमा दी। जिसे पुलिस ने मानने से इंकार किया है।

इस दौरान गोपाल काली ने पूरे मामले को राजनीति से प्रेरित बताते हुए हस्तिनापुर नगर पंचायत चेयरमेन और थाने के पूर्व SO धर्मेन्द्र यादव पर आरोप लगाया है। काली ने कहा है कि मैने हस्तिनापुर के पूर्व एवं करोड़पति SO धर्मेंद्र यादव के भ्रष्टाचार का खुलासा किया था। इस भ्रष्टाचार में चेयरमेन भी शामिल है।

इसी का बदला लेने के लिए मेरे खिलाफ ये सब किया जा रहा है। धरने पर बैठे पूर्व विधायक ने चेयरमैन और एसओ पर जान से मारने की धमकी देने का भी आरोप भी लगाया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...