1. हिन्दी समाचार
  2. मीडिया जगत
  3. भारतीय मूल की इस महिला पत्रकार को मिला पत्रकारिता के क्षेत्र का सबसे बड़ा पुरस्कार, किया था चीन के झूठ को बेनकाब

भारतीय मूल की इस महिला पत्रकार को मिला पत्रकारिता के क्षेत्र का सबसे बड़ा पुरस्कार, किया था चीन के झूठ को बेनकाब

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: देश की बेटियां दुनिया में जाकर सभी क्षेत्र में देश का और अपना नाम उंचा कर रही हैं। भारतीय मूल की एक बेटी ने पत्रकारिता में अपने आप को स्थापित कर पत्रकारिता के क्षेत्र में सबसे बड़ा पुरस्कार जीत कर सबका मान बढ़ाया है। इस महिला पत्रकार का नाम मेघा राजगोपालन है।

आपको बता दें कि मेघा ने अपने रिपोर्ट्स के माध्यम से चीन के डिटेंशन कैंपों की सच्चाई दुनिया के सामने रखी थी। उन्होंने सैटेलाइट तस्वीरों का विश्लेषण कर बताया था कि चीन ने कैसे लाखों की संख्या में उइगुर मुसलमानों को कैद करके रखा हुआ है।

मेघा ने अपने पिता के बधाई संदेश को ट्विटर पर पोस्ट किया है। इस मैसेज में उनके पिता मेघा को पुलित्जर पुरस्कार मिलने की बधाई दी है। उनके पिता ने लिखा कि बधाई मेघा, मम्मी ने मुझे अभी यह संदेश फॉरवर्ड किया है। पुलित्जर पुरस्कार। बहुत बढ़िया। जिसके जवाब में मेघा ने थैंक्स लिखकर रिप्लाई किया।

मेघा के आलावा इंटरनेट मीडिया के दो पत्रकारों को भी पुलित्जर पुरस्कार मिला है। भारतीय मूल के पत्रकार नील बेदी को भी स्थानीय रिपोर्टिंग कैटेगरी में पुलित्जर पुरस्कार दिया गया है। उन्होंने फ्लोरिडा में सरकारी अधिकारियों के बच्चों की तस्करी को लेकर टंपा बे टाइम्स के लिए इंवेस्टीगेशन स्टोरी की थी।

वहीं अमेरिका की डार्नेला फ्रेजियर को पुलित्जर स्पेशल साइटेशन दिया गया। उन्होंने मिनेसोटा में उस घटना को रिकॉर्ड किया था जिस दौरान अश्वेत-अमेरिकन जॉर्ज फ्लॉएड की जान चली गई थी। इसके बाद अमेरिका ही नहीं, दुनियाभर में नस्लीय हिंसा के विरोध में भारी प्रदर्शन हुए थे।

आपको बता दें कि पत्रकारिता के क्षेत्र में पुलित्जर पुरस्कार सबसे पहले साल 1917 में दिया गया था और इसे अमेरिका में इस क्षेत्र का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान माना जाता है। पत्रकारिता के क्षेत्र में 2020 जैसे वर्ष कम ही रहे होंगे जब जो कुछ भी हुआ उस पर कोविड-19 का प्रभाव रहा। पहले पुरस्कार समारोह का आयोजन 19 अप्रैल को होना था लेकिन इसे जून तक के लिए स्थगित कर दिया गया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads