Home विदेश डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की तलवार लटक गई, डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने ट्रंप के खिलाफ आरोपों का मसौदा तैयार कर लिया

डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की तलवार लटक गई, डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने ट्रंप के खिलाफ आरोपों का मसौदा तैयार कर लिया

0 second read
0
8

वाशिंगटन: डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने ट्रंप के खिलाफ आरोपों का मसौदा तैयार कर लिया है। इस पर 190 डेमोक्रेट सांसदों ने हस्ताक्षर किए हैं, लेकिन ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के किसी सांसद ने अभी तक इसका समर्थन नहीं किया है। महाभियोग संबंधी प्रस्ताव सोमवार को संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में पेश किया जा सकता है। इस सदन में डेमोक्रेट बहुमत में हैं।

प्रतिनिधि सभा के सदस्य टेड लियू ने शनिवार रात ट्वीट के जरिये बताया कि सदन में पार्टी के सदस्य सोमवार को महाभियोग संबंधी प्रस्ताव पेश करेंगे। इस संबंध में तैयार किए गए मसौदे पर शनिवार रात तक 190 डेमोक्रेट सांसदों ने हस्ताक्षर कर दिए थे। इस पर अभी तक किसी रिपब्लिकन ने हस्ताक्षर नहीं किया है।

डेमोक्रेट सांसदों ने मुख्य रूप से भीड़ को उकसाने के आरोप में महाभियोग की तैयारी की है। ट्रंप ने गत तीन नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव में धांधली के आरोप लगाकर एक वीडियो संदेश के जरिये अपने समर्थकों को संसद की ओर कूच करने को कहा था। ट्रंप ने समर्थकों के कृत्य की पहले तारीफ की थी, लेकिन बाद में हिंसा की आलोचना की।

प्रतिनिधि सभा में ट्रंप के खिलाफ पद के दुरुपयोग के आरोप में दिसंबर, 2019 में भी महाभियोग लाया गया था। लेकिन बाद में यह महाभियोग रिपब्लिकन के बहुमत वाले सीनेट में गिर गया था।

रिपब्लिकन पार्टी के शीर्ष सीनेटर पैट टूमी ने संसद पर ट्रंप समर्थकों के हमले की तीखी आलोचना की है। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि ट्रंप ने महाभियोग चलाने योग्य अपराध किया है।’ हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि अगर सीनेट में प्रस्ताव आता है तो वह ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाने के लिए मतदान करेंगे या नहीं।

संसद हमले में दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन दोनों की हमले के दौरान की तस्वीरें इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुई थीं। हमले वाले दिन 52 लोगों को पकड़ा गया था। एफबीआइ ने हमलावरों की पहचान के लिए लोगों से मदद मांगी है। इधर, डेमोक्रेट सांसदों ने लोगों से आग्रह किया है कि वे हमला संबंधी डाटा को सुरक्षित रखें।
सूत्रों ने बताया कि ट्रंप ने अपने वरिष्ठ सहयोगियों के आग्रह पर समर्थकों से शांति की अपील की थी। सहयोगियों ने ट्रंप को यह सलाह दी थी कि अगर ऐसा नहीं किया तो पद से हटाए जा सकते हैं। ट्रंप के उकसावे पर गत बुधवार को हजारों समर्थकों ने कैपिटल कहे जाने वाले संसद परिसर पर हमला किया था।
Load More In विदेश
Comments are closed.