Home देश कोरोना के बढ़ते केसों के बीच सीरम इंस्टीट्यूट ने किया कोविशील्ड वैक्सीन के कीमतों का ऐलान, जानिए क्या है कीमत

कोरोना के बढ़ते केसों के बीच सीरम इंस्टीट्यूट ने किया कोविशील्ड वैक्सीन के कीमतों का ऐलान, जानिए क्या है कीमत

0 second read
0
41

नई दिल्ली : देश में लगातार कोरोना के बढ़ते केसों के बीच देश के कई क्षेत्रों से निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना वैक्सीन के मुंहमांगी कीमत लेने जाने की बात कहीं जा रहीं थीं, जिसे लेकर आम लोग काफी परेशान थे। क्योंकि वे इतने समर्थ नहीं थे कि वो इस वैक्सीन का इतना कीमत दें सकें। जिसे लेकर लगातार केंद्र सरकार द्वारा इस वैक्सीन की कीमत निर्धारित होने की बात कही जा रही थीं। जिसके बाद अब भारत सरकार के निर्देशों के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोविशील्ड वैक्सीन की कीमतों की घोषणा कर दी है।

घोषणा के अनुसार, राज्य सरकारों के लिए कोविशील्ड वैक्सीन की प्रति डोज की कीमत 400 रुपये और प्राइवेट अस्पतालों के लिए प्रति डोज की कीमत 600 रुपये होगी। संक्रमण से बचने के लिए कोविशील्ड की दो डोज ली जाती है। पहली और दूसरी डोज के बीच 4 से 6 हफ्ते का अंतर होता है।

सीरम इंस्टीट्यूट ने सीईओ अदार पूनावाला ने बताया कि, “अगले दो महीनों के लिए हम टीकों की उत्पादन क्षमता बढ़ाएंगे। हमारी क्षमता का 50 फीसदी टीके भारत सरकार के टीकाकरण अभियान को दिए जाएंगे और बाकी 50 फीसदी राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों के लिए होंगे।” कंपनी ने कहा कि उसके टीके बाकी सभी टीकों की तुलना में सबसे सस्ते हैं। अमेरिकन कंपनी फाइजर और मॉडर्ना की वैक्सीन 1500 रुपये प्रति डोज है। स्पुतनिक वी की कीमत 750 रुपये प्रति डोज है।

आपको बता दें कि वैक्सीन उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए हाल ही में केंद्र ने वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और भारत बायोटेक को समर्थन देने को लेकर सैद्धांतिक मंजूरी दी है। हाल ही में वित्त मंत्रालय ने सीरम इंस्टीट्यूट के लिए 3,000 करोड़ और भारत बायोटेक को 1,500 करोड़ रुपये प्रदान करने की मंजूरी दी है और इन्हें जल्द ही यह क्रेडिटवितरित किया जाएगा।

बता दें कि इससे पहले सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने सुझाव दिया था कि उन्हें वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाने के लिए करीब 3000 करोड़ रुपए की जरूरत है। जिसके बाद सरकार ने उनके मांगों पर अमल करते हुए उसे मंजूर किया।

Load More In देश
Comments are closed.