Home Breaking News कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह का नई दिल्ली निधन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह का नई दिल्ली निधन

4 second read
0
10

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ दलित नेता सरदार बूटा सिंह का शनिवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। उन्हे पिछले कुछ दिनों पहले दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बूटा सिंह का जन्म 21 मार्च, 1934 को पंजाब के जालंधर जिले के मुस्तफापुर गांव में हुआ था। 86 साल के बूटा सिंह के दो बेटे और एक बेटी हैं। उन्हें नेहरू-गांधी परिवार का काफी करीबी माना जाता था।

कांग्रेस के नेता सरदार बूटा सिंह के निधन पर राहुल गाँधी ने शोक व्यक्त करते हुए लिखा सरदार बूटा सिंह जी के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा। इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएँ।

राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस के नेता सरदार बूटा सिंह ने केंद्रीय मंत्री, कृषि मंत्री, रेल मंत्री, खेल मंत्री और अन्य कार्यभार के इलावा बिहार के राज्यपाल और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति कमीशन के चेयरमैन के तौर पर देश की सेवा की है।

जालंधर के पास गांव मुस्तफापुर के जंमपल सरदार बूटा सिंह आठ बार लोकसभा के लिए चुने गए और गांधी- नेहरु परिवार के वफादार नेताओं में शामिल थे। उनका अंतिम संस्कार भी आज ही किया जाएगा। वर्ष 1934 जालंधर जिले में जन्मेे बूटा सिंह राष्ट्रीय राजनीति का एक बड़ा नाम थे। आठ आठ बार लोकसभा के लिए चुने गए थे।

बूटा सिंह दलितों के मसीहा के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने भारत में और विदेशों में विशेष रूप से श्री अकाल तख्त साहिब के निर्माण/पुनः निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वर्ष 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद उन्होंने दिल्ली व अन्य स्थानों पर गुरुद्वारों के पुनर्निर्माण में भी भूमिका निभाई।

Load More In Breaking News
Comments are closed.