Home दिल्ली पुरानी गाड़ियां देखकर बेचैन हो जाता था ब्लॉक प्रमुख के पति का दिल, 25 साल में चुराएं 1000 वाहन

पुरानी गाड़ियां देखकर बेचैन हो जाता था ब्लॉक प्रमुख के पति का दिल, 25 साल में चुराएं 1000 वाहन

0 second read
0
161

नई दिल्ली : दिल तो बच्चा है जी, लेकिन इतना बच्चा जो चोरी करने के लिए बेचैन हो जाएं। जी हां, एक ऐसा ही मामला सामने आया है दिल्ली-एनसीआर से। जहां वाहन चुराने वाले गैंग के मुखिया को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जो ब्लॉक प्रमुख का पति है। पुलिस का दावा है कि ब्लॉक प्रमुख का पति पिछले करीब 25 साल में एक हजार से अधिक वाहन चोरी की वारदातों को अंजाम दे चुका है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से चोरी की चार कार, तीन चोरी के इंजन, विभिन्न कारों की 20 चाबियां व अन्य सामान बरामद किया है। वहीं इस गैंग में शामिल दो अन्य आरोपी अभी फरार हैं।

नोएडा जोन के डीसीपी राजेश एस ने बताया कि थाना सेक्टर 24 पुलिस ने गुरुरवार सुबह सेक्टर 53 सीएनजी फिलिंग स्टेशन के पास से दो वाहन चोरों को गिरफ्तार किया। उनकी पहचान मुस्तकीम निवासी ग्राम भैंसरौली थाना अगौता जिला बुलंदशहर और इकबाल निवासी ग्राम मबीमीरा थाना दौराना जिला मेरठ के रूप में हुई है।

डीसीपी ने बताया कि मुस्तकीम की पत्नी शोभा देवी वर्तमान में बुलंदशहर के अगौता एरिया की ब्लॉक प्रमुख हैं। वह निर्विरोध ब्लॉक प्रमुख चुनी गई थी‌। आरोपी ने बताया कि पत्नी को चुनाव जिताने के लिए मुस्तकीम ने एक करोड़ रुपये खर्च किए थे। इस बार भी मुस्तकीम की पत्नी दोबारा से चुनाव मैदान में हैं। फरार आरोपी अफजाल भी इस बार अपने गांव मबीमीरा से ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा है।

मुस्तकीम ने आगे बताया कि पुरानी गाड़ी दिखते ही उसका दिल बैचेन हो जाता है। जब तक वह उसे चोरी न कर ले उसका मन नहीं मानता था। 2008 से पहले के मॉडल की गाड़ी जैसे सैन्ट्रो, ऑल्टो, आई टेन और छोटी गाड़िय़ों को इकबाल और अफजाल को 30 से 40 हजार में बेच देते थे। वे कबाड़ में काटकर उसके पार्ट्स बेचते थे। मुस्तकीम 2008 से ऊपर के मॉडल की गाडिय़ों को इकबाल और अफजाल से ही नंबर बदलवाकर 70 से 80 हजार रुपए में बेचता था।

वहीं इस मामले में नोएडा जोन एसीपी द्वितीय रजनीश वर्मा ने बताया कि मुस्तकीम अपने साथी के साथ एक महीने में 28 दिन वाहन चोरी की वारदातों को अंजाम देता था। इस दौरान वह 25 से 30 वाहन आराम से चोरी कर लिया करते थे। महीने के दो दिन वे आराम करते थे। आरोपी वाहन चोरी की वारदात को अंजाम देने के लिए दिन में ही आता था और दिन में ही वाहन चोरी कर ले जाता था।

Load More In दिल्ली
Comments are closed.