Home दिल्ली प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की बातचीत लाइव करने पर पीएम ने जताई आपत्ति, केजरीवाल ने मांगी माफी, की ऑक्सीजन की मांग

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की बातचीत लाइव करने पर पीएम ने जताई आपत्ति, केजरीवाल ने मांगी माफी, की ऑक्सीजन की मांग

15 second read
0
471

नई दिल्ली : कोरोना के लगातार बिगड़ते हालात के बीच आज पीएम मोदी ने संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। लेकिन इसी मीटिंग में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का संबोधन विवाद का कारण बन गया। क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई बैठक में अरविंद केजरीवाल ने जो संबोधन दिया, वो LIVE टेलीकास्ट किया गया। इसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद आपत्ति जताई और बैठक में कहा कि यह प्रोटोकॉल का उल्लंघन है।

पीएम मोदी ने कहा कि, ”यह प्रोटोकॉल के खिलाफ हो रहा है कि कोई मुख्यमंत्री इन हाउस मीटिंग को लाइव टेलीकास्ट करें। यह उचित नहीं है। हमें प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए।” इसके बाद सीएम केजरीवाल ने कहा कि ”ठीक है सर, हम इसका आगे से ध्यान रखेंगे।”

सीएमओ ने कहा कि आज सीएम के संबोधन को लाइव साझा किया गया क्योंकि केंद्र सरकार की ओर से कभी कोई निर्देश, लिखित या मौखिक नहीं आया है कि बातचीत को लाइव नहीं कहा जा सकता है। हालांकि, अगर कोई असुविधा हुई है तो हमें इस बात के लिए खेद जताते हैं।

 

बैठक में क्या बोले केजरीवाल?

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 11 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि ऑक्सीजन की कमी काफी ज्यादा है, सरकार को देश के ऑक्सीजन प्लांट को कंट्रोल में लेकर सेना को सौंप देना चाहिए ताकि सभी राज्यों को ऑक्सीजन तुरंत मिल पाए। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वह CM होकर भी कुछ नहीं कर पा रहे हैं।

केजरीवाल ने अपील की, कि हवाई मार्ग से भी ऑक्सीजन मिलनी चाहिए, जबकि ऑक्सीजन एक्सप्रेस की सुविधा दिल्ली में भी शुरू होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर ऑक्सीजन के संकट को दूर नहीं किया गया, तो दिल्ली में त्रासदी हो सकती है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश में वैक्सीन सभी को एक ही दाम पर मिलनी चाहिए, केंद्र-राज्य को अलग-अलग दाम में वैक्सीन नहीं मिलनी चाहिए।

अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी के सामने कहा कि कई अस्पतालों का फोन लगातार आ रहा है कि एक ही घंटे का ऑक्सीजन बचा है, हम क्या कर सकते हैं। कुछ राज्यों में ऑक्सीजन के टैंकर रोके गए हैं। कई बार उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों से मदद मांगी, जो मिली भी थी लेकिन वो भी अब थक गए हैं।

गौरतलब है कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी से इस वक्त कई अस्पताल जूझ रहे हैं। शुक्रवार सुबह ही दिल्ली के मैक्स, सर गंगाराम अस्पताल में अंतिम वक्त में ऑक्सीजन की सप्लाई पहुंची। हालांकि, अभी भी कुछ ही घंटे का स्टॉक पहुंच पाया है।

आपको बता दें कि इस बैठक में दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक समेत 11 राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल थे, जिन्होंने अपनी-अपनी बातें पीएम मोदी के सामने रखीं।

Load More In दिल्ली
Comments are closed.