1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. MP News: बुधनी उपचुनाव को लेकर क्या कहा पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने, क्या है कांग्रेस की रणनीति

MP News: बुधनी उपचुनाव को लेकर क्या कहा पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने, क्या है कांग्रेस की रणनीति

बुधनी विधानसभा में आगामी उपचुनाव के साथ, भाजपा और कांग्रेस दोनों एक महत्वपूर्ण राजनीतिक मुकाबले के लिए तैयारी कर रहे हैं। यह उपचुनाव पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद हो रहा है, जिससे यह दोनों पार्टियों के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण बन गया है।

By Rekha 
Updated Date

बुधनी विधानसभा में आगामी उपचुनाव के साथ, भाजपा और कांग्रेस दोनों एक महत्वपूर्ण राजनीतिक मुकाबले के लिए तैयारी कर रहे हैं। यह उपचुनाव पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद हो रहा है, जिससे यह दोनों पार्टियों के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण बन गया है।

बीजेपी की तैयारी और शिवराज सिंह चौहान की स्थिति
ऐसा कहा जा रहा है कि बुधनी की राजनीति में एक प्रमुख व्यक्ति पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार के रूप में पूर्व सांसद रमाकांत भार्गव का समर्थन करेंगे। 2019 विदिशा लोकसभा सीट पर 5 लाख से अधिक वोटों से निर्णायक जीत हासिल करने वाले भार्गव को एक मजबूत दावेदार के रूप में देखा जा रहा है।

चौहान का प्रभाव
18 वर्षों तक बुधनी विधानसभा का प्रतिनिधित्व करने के बाद, चौहान ने क्षेत्र में भाजपा के प्रभुत्व को मजबूत किया है। उनके लगातार कार्यकाल ने बुधनी को बीजेपी का गढ़ बना दिया है।

चौहान की भार्गव को प्राथमिकता के बावजूद, भाजपा उपचुनाव के लिए एक जमीनी स्तर के कार्यकर्ता को नामांकित करने पर विचार कर रही है। बुधनी में चौहान की शुरुआती जीत 1990 से शुरू होती है, अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल के बाद 1991 के उपचुनाव में उल्लेखनीय जीत के साथ।

कांग्रेस की रणनीतिक चालें
बुधनी में कमजोर स्थिति का सामना कर रही कांग्रेस इस क्षेत्र में अपना प्रभाव फिर से हासिल करने के लिए सक्रिय रूप से रणनीति बना रही है। पार्टी ने अभियान की अगुवाई के लिए पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह और पूर्व विधायक शैलेन्द्र पटेल को नामित किया है।

उम्मीदवार पर विचार
जयवर्धन सिंह ने पूर्व विधायक राजकुमार पटेल के प्रति समर्थन जताया है और सुझाव दिया है कि वह कांग्रेस के उम्मीदवार हो सकते हैं। बुधनी में पटेल की पिछली सफलता में 1993 में भाजपा के गुरुप्रसाद शर्मा के खिलाफ जीत शामिल है। इसके अलावा, उनके भाई देवकुमार पटेल ने 1998 में सीट जीती थी।

कांग्रेस बुधनी में अपनी कम उपस्थिति को स्वीकार करती है, मतदान केंद्र स्तर पर भी कार्यकर्ताओं की कमी है। पार्टी अपना आधार फिर से बनाने और उपचुनाव लड़ने के लिए प्रभावी रणनीति तैयार करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है।

बुधनी में सियासी माहौल
बुधनी उपचुनाव भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण युद्ध का मैदान होने की उम्मीद है। शिवराज सिंह चौहान के लंबे समय से चले आ रहे प्रभाव और कांग्रेस के नए प्रयासों से, बुधनी में राजनीतिक गतिशीलता प्रतिस्पर्धी चुनाव के लिए तैयार है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...