Home उत्तर प्रदेश मुरादाबाद: सरकारी क्रय केंद्र पर परेशान किसान , पढ़े

मुरादाबाद: सरकारी क्रय केंद्र पर परेशान किसान , पढ़े

2 second read
0
11

उत्तर प्रदेश में धान खरीद केंद्रों पर शुरू हो चुकी है और प्रदेश सरकार द्वारा ऐसा दावा किया जा रहा है कि खरीद केंद्रों पर व्यवस्थाएं दुरुस्त है। लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले से है। यहां डिंडोरी गांव में यूपी सरकार के खरीद केंद्र पर पिछले 3 दिनों से कोई भी कर्मचारी व अधिकारी उपस्थित नहीं है।

धान खरीद केंद्र पर अधिकारी व कर्मचारियों के उपस्थित न होने से किसान परेशान है और वो वो अपनी फसल नहीं बेच पा रहे हैं। तो वहीं, किसानों का सवाल है कि वो अपना धान किसे बेचें?

सरकारी धान खरीद केंद्र के बाहर प्राइवेट व्यापारियों के लोग किसानों को बहला-फुसलाकर औने-पौने दामों पर धान खरीद लेते है। इतना ही नहीं, वो सरकारी रेत से करीब 400 से 500 रुपए कम पर धान की खरीद करते है।

इस मुद्दे को उठाते हुए 13 अक्टूबर को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश सरकार पर हमला बोला था। प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा था कि सरकार उत्तर प्रदेश में किसानों को धान का वाजिब मूल्य दिलाने में नाकाम है।

अब मुरादाबाद जिले के डिंडोरी गांव के सरकारी धान क्रय केंद्र पर किसान पिछले 3 दिनों से सरकारी कर्मचारी या अधिकारी का इंतजार कर रहे हैं। एक किसान ने कहा कि यहां कोई नहीं है। हम अपना धान बेचना चाहते हैं लेकिन वे बहाने बना रहे हैं ताकि खरीद में देरी हो जाए। किसानों ने कहा कि हर साल सरकारी कर्मचारी और दलालों के बीच साठगांठ के चलते उन्हें ये झेलना पड़ता है।

सरकारी कर्मचारी चाहते ही नहीं हैं कि खरीद हो, क्योंकि उसमें उनकी कमाई नहीं होती है। वे किसी तरह मामले को लटकाते रहते हैं। आखिरकार परेशान दूसरी जगह औने-पौने दाम में धान बेच देता है, और उन लोगों से कमीशन कर्मचारियों को मिल जाता है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.