Home Breaking News मोदी बोले- नए दशक में, हम विश्व स्तर पर ब्रांड इंडिया को एक नई छवि देने के लिए जिम्मेदार हैं

मोदी बोले- नए दशक में, हम विश्व स्तर पर ब्रांड इंडिया को एक नई छवि देने के लिए जिम्मेदार हैं

3 min read
0
4

पीएम मोदी ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए ओडिशा में भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) संबलपुर के स्थायी परिसर की आधारशिला रखी है। इस दौरान पीएम ने कहा आज IIM कैंपस के शिलान्यास के साथ ही ओड़िशा के युवा सामर्थ्य को मजबूती देने वाली एक नई शिला भी रखी गई है। IIM का ये स्थायी कैंपस ओड़िशा के महान संस्कृति और संसाधनों की पहचान के साथ ओड़िशा को मैंनेजमेंट जगत में नई पहचान देने वाला है।

उन्होंने कहा आज के स्टार्टअप कल के बहु-नागरिक बन सकते हैं। ये स्टार्ट-अप ज्यादातर देश के टियर -2 और टियर -3 शहरों में शुरू हो रहे हैं।

मोदी बोले बीते दशकों में एक ट्रेंड देश ने देखा, बाहर बने मल्टी नेशनल बड़ी संख्या में आए और इसी धरती में आगे भी बढ़े। ये दशक और ये सदी भारत में नए-नए मल्टीनेशसल्स के निर्माण का है।

मोदी ने कहा भारत के युवाओं को भारत में आगे बढ़ने वाले बड़े अवसरों के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है। इस नए दशक में, हम विश्व स्तर पर ब्रांड इंडिया को एक नई छवि देने के लिए जिम्मेदार हैं।

पीएम आगे बोले देश के नए क्षेत्रों में नए अनुभव लेकर निकल रहे मैंनेजमेंट एक्सपर्ट भारत को नई ऊंचाई पर ले जाने में बड़ी भूमिका निभाएंगे। इस साल भारत ने कोविड संकट के बावजूद पिछले सालों की तुलना में ज्यादा यूनिकॉर्न दिए हैं।

उन्होंने आगे कहा स्थानीय को वैश्विक में बदलने के लिए, IIM छात्रों को नए और नए समाधान खोजने की जरूरत है। मुझे यकीन है कि हमारे आईआईएम स्थानीय उत्पादों और वैश्विक सहयोग के बीच एक सेतु का काम कर सकते हैं।

पीएम ने कहा जब आपमें से अनेक साथी संबलपुरी टेक्सटाइल और कटक की फिलिगिरी कारीगरी को ग्लोबल पहचान दिलाने में अपने कौशल का इस्तेमाल करेंगे, यहां के टूरिज्म को बढ़ाने के लिए काम करेंगे। तो आत्मनिर्भर भारत अभियान के साथ ही ओड़िशा के विकास को भी नई गति मिलेगी।

मोदी ने कहा प्रबंधन कौशल के लिए काम का पैटर्न और मांग तेजी से बदल रही है। आज, टॉप-डाउन और टॉप-हेवी मैनेजमेंट की जरूरत नहीं है। यह सहयोगी, नवीन और परिवर्तनकारी प्रबंधन में बदल गया है।

उन्होंने कहा Work from anywhere के कॉन्सेप्ट से पूरी दुनिया ग्लोबल विलेज से ग्लोबल वर्कप्लेस में बदल गई है। भारत ने भी इसके लिए हर जरूरी रिफॉर्म्स बीते कुछ महीनों में तेजी से किये हैं।

उन्होंने बोला सीओवीआईडी ​​के दौरान, भारत ने पीपीई किट, मास्क और वेंटिलेटर के लिए स्थायी समाधान पाया। भारत ने समस्या-समाधान के लिए हमेशा के लिए अल्पकालिक उपाय अपनाए थे। आज, भारत ने दीर्घकालिक समाधान के लिए अपना दृष्टिकोण बदल दिया है।

प्रधानमंत्री बोले आज, भारत का गैस कवरेज 98% से अधिक है, जो हमारे दीर्घकालिक समाधान दृष्टिकोण द्वारा मदद करता है। आप जानते हैं कि 100% में कवरेज को बदलना वास्तविक चुनौती है और हम इसके लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

उन्होंने कहा स्थायी समाधान देने के नीयत का नतीजा है कि आज देश में 28 करोड़ से ज्यादा गैस कनेक्शन हैं। 2014 से पहले देश में 14 करोड़ गैस कनेक्शन थे। हमने 6 वर्षों में 14 करोड़ से ज्यादा गैस कनेक्शन दिए हैं।

मोदी बोले हम पेशेवर शिक्षा में मौजूद साइलो को हटाने की कोशिश कर रहे हैं। हम सभी को बेहतर विकास के लिए मुख्यधारा में शामिल करना चाहते हैं, जो समावेशी प्रकृति का एक स्पष्ट उदाहरण है।

Load More In Breaking News
Comments are closed.