Home उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के विवादित बयान पर चीन को लगी मिर्ची

उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के विवादित बयान पर चीन को लगी मिर्ची

0 second read
0
6

उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के विवादित बयान पर चीन को लगी मिर्ची

उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के एक विवादित बयान पर चीन को जबर्दस्त मिर्ची लगी है। स्वतंत्रदेव सिंह ने जो कुछ भी दावा किया, उसे भारत में कोई ज्यादा तबज्जो नहीं मिली है, लेकिन लगता है की चीन की सरकारी मीडिया ने उसे कुछ ज्यादा ही गंभीरता से ले लिया है।

दो दिन पहले ही उनका एक वीडियो खूब वायरल हुआ था, जिसमें बलिया की एक रैली में वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसलों के बारे में बढ़चढ़ कर दावे करते नजर आ रहे थे।

इसमें उन्होंने कहा था कि चीन और पाकिस्तान के साथ युद्ध कब होगा ये भी पीएम मोदी ने पहले से तय कर रखा है। चीन की सत्ताधारी चाइनीज कम्युनिस्ट पार्टी के प्रोपेगेंडा अखबार ग्लोबल टाइम्स ने इसी बात को लेकर उनपर निशाना साधा है।

उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने हाल ही में दावा किया था कि ये मोदीजी ने तय……….सब तिथि तय है मित्रों…..कब क्या होना है…..सब तय है……370 धारा कब समाप्त होगा…राम मंदिर का निर्माण कब होगा….पाकिस्तान से युद्ध कब होगा, चाइना से युद्ध कब होगा… इसी बात पर भड़कते हुए ग्लोबल टाइम्स ने अपने लेख में लिखा है ‘इस तरह के दावों से भारतीयों के मन में यह गलत धारणा बैठ जाएगी कि भारत इतना ताकतवर है कि अगर चीन और पाकिस्तान के साथ जंग होती है तो वह निश्चित ही जीत जाएगा।’

शी जिनपिंग की सरकार के ओर से अहंकार भरे अंदाज में ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है, हालांकि, राजनीतिक तौर पर भारत एक प्रमुख शक्ति है, लेकिन अगर चीन के साथ युद्ध भड़का तो उसकी हार तय है।

भारत-चीन के कोर कमांडर लेवल की आठवीं दौर की संभावित बातचीत का जिक्र करते हुए चाइनीज सरकार का मुखपत्र एक तरह से भारत को धमकाने के अंदाज में लिखता है, भारत को बेलगाम दृष्टिकोण और कट्टर राष्ट्रवादी भावनाओं को बढ़ावा देने के बजाय सद्भावना भरे संकेत देने की जरूरत है।

इसने ये भी माना है कि स्वतंत्रदेव सिंह बीजेपी की अगुवाई वाली भारत सरकार के आधिकारिक नजरिए का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते और वह राजनीति के तहत ऐसा कर रहे हैं।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.