Home विदेश जो बाइडन ने ट्रंप को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि राष्ट्रपति अपना काम करने की जगह ज्यादातर समय शिकायत में लगा रहे

जो बाइडन ने ट्रंप को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि राष्ट्रपति अपना काम करने की जगह ज्यादातर समय शिकायत में लगा रहे

0 second read
0
4

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव नतीजों को पलटने के प्रयास में घिर गए हैं। देश के भावी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्रंप को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि राष्ट्रपति अपना काम करने की जगह ज्यादातर समय शिकायत करने में लगा रहे हैं। जबकि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ट्रंप का नाम लिए बगैर कहा कि कुछ लोग सत्ता में बने रहने के लिए लोकतंत्र के सिद्धांतों को खतरे में डाल रहे हैं।

बता दें कि गत रविवार को एक ऑडियो टेप लीक हुआ था, जिसमें ट्रंप को जॉर्जिया प्रांत के मुख्य चुनाव अधिकारी ब्रेड रेफेनस्पर्जर पर दबाव बनाते सुना गया। उन्होंने चुनाव अधिकारी से कहा कि उनकी हार को पलटने के लिए पर्याप्त वोटों की व्यवस्था करें। ट्रंप ने गत शनिवार को फोन कर करीब एक घंटे तक बात की थी और यह धमकी भी दी थी कि अगर ऐसा नहीं किया तो खामियाजा भुगतना पड़ेगा। अमेरिका में गत तीन नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप ने डेमोक्रेट बाइडन के हाथों अभी तक अपनी हार नहीं मानी है।

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन ने सोमवार को कहा, ‘ट्रंप समस्याओं के बारे में कुछ करने की जगह अधिकतर समय शिकायतें करने में लगा रहे हैं। मुझे समझ नहीं आता कि वह अभी भी पद पर बने क्यों रहना चाहते हैं। वह कोई काम करना नहीं चाहते हैं।’ इधर, ओबामा ने किसी का नाम लिए बगैर एक ट्वीट में कहा, ‘हम देख रहे हैं कि कुछ लोग सत्ता में रहने के लिए लोकतंत्र के मौलिक सिद्धांतों को खतरे में डालने के लिए कहां तक जा सकते हैं। लेकिन हमारा लोकतंत्र किसी एक व्यक्ति के बारे में नहीं है। चाहे वह राष्ट्रपति ही क्यों न हो।

अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा के दो डेमोक्रेट सांसदों कैथरीन राइस और टेड लियू ने चुनाव नतीजों को पलटने के मामले की आपराधिक जांच कराने की मांग की है। उन्होंने एफबीआइ निदेशक से कहा कि वह ट्रंप द्वारा जॉर्जिया के चुनाव अधिकारी पर दबाव बनाने के मामले की जांच शुरू कराएं।

राष्ट्रपति ट्रंप के कार्यकाल में अब महज दो हफ्ते बचे हैं, लेकिन वह अब भी अपनी हार स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने साफ कहा है कि वह राष्ट्रपति पद पर बने रहने के लिए कुछ भी करने से गुरेज नहीं करेंगे। वह इसके लिए जी-जान से लड़ेंगे। इस मुहिम में उनकी रिपब्लिकन पार्टी के कुछ सांसद भी साथ दे रहे हैं।

अमेरिका के दस पूर्व रक्षा मंत्रियों ने ट्रंप को सचेत किया है कि वह चुनाव में कथित धोखाधड़ी के अपने दावों को साबित करने के लिए सेना को नहीं घसीटें। इससे देश में खतरनाक, गैरकानूनी और असंवैधानिक स्थिति पैदा हो जाएगी। इन पूर्व रक्षा मंत्रियों में डेमोक्रेट और रिपब्लिकन दोनों हैं। उन्होंने वाशिंगटन पोस्ट में रविवार को प्रकाशित एक लेख में अपने विचार साझा किए और राष्ट्रपति पद नहीं छोड़ने को लेकर ट्रंप की अनिच्छा पर सवाल खड़े किए।

Load More In विदेश
Comments are closed.