1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. भारतीय जाली मुद्रा की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तस्करी करने वाले गिरोह का सरगना हुआ गिरफ्तार, पढें पूरी खबर…

भारतीय जाली मुद्रा की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तस्करी करने वाले गिरोह का सरगना हुआ गिरफ्तार, पढें पूरी खबर…

दीपक ने बताया कि वह 12-14 वर्षों से भारतीय जाली मुद्रा की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तस्करी का काम कर रहा है। पहले वह 40 हजार रुपये के बदले एक लाख रुपये नकली नोट लेकर यूपी, बिहार, पंजाब, दिल्ली व राजस्थान में सप्लाई करता था।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

प्रयागराज: पहले वह 40 हजार रुपये के बदले एक लाख रुपये नकली नोट लेकर यूपी, बिहार, पंजाब, दिल्ली व राजस्थान में सप्लाई करता था। यूपी एसटीएफ ने प्रयागराज के एक मामले में वांछित एक लाख के इनामी नकली नोटों के अंतर्राष्ट्रीय तस्कर दीपक मंडल को केरल से गिरफ्तार किया गया है। मंडल मूल रूप से पश्चिम बंगाल के मालदा का रहने वाला है।

दीपक ने बताया कि वह 12-14 वर्षों से भारतीय जाली मुद्रा की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तस्करी का काम कर रहा है। जानकारी के अनुसार इसी वर्ष STF की यूनीट ने रूपेश कुमार को गिर्फतार किया गया। और उसके पास 1लाख नकली नोट बरमद किए गये थे। इस मामले में जांच के दौरान दीपक मंडल का नाम प्रकाश में आया था। उसके बाद से ही दीपक की तलाश की जा रही थी। दीपक की गिरफ्तारी पर एक लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था।

पूछताछ में दीपक ने बताया कि वह 12-14 वर्षों से भारतीय जाली मुद्रा की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर तस्करी का काम कर रहा है। पहले वह 40 हजार रुपये के बदले एक लाख रुपये नकली नोट लेकर यूपी, बिहार, पंजाब, दिल्ली व राजस्थान में सप्लाई करता था। 2013 में उसे एसटीएफ ने प्रयागराज से ही गिरफ्तार किया था। जेल से छूटने के बाद वह फिर इसी काम में घूस गया। 2018 में उसे दिल्ली की स्पेशल सेल ने साढ़े सात लाख रुपये नकली नोटों के साथ गिरफ्तार किया था। वहां से भी छूटने के बाद फिर से नकली नोटों की तस्करी में लिप्त हो गया।

मंडल ने बताया कि मई 2021 में प्रयागराज के रामू ने एक लाख रुपये की नकली नोट ली थी, जिसेकी डिलेवरी करने रूपेश प्रयागराज गया था। और तभी प्रयागराज एसटीएफ ने उसे पकड़ लिया था। बाद में पता चला कि उसी मामले में उसे (दीपक को) भी नामजद कर लिया गया है। जिसके बाद वह सतर्क हो गया। पिछले दिनों दीपक की तलाश में एक टीम मालदा (हल्दिआ) गई थी, लेकिन इसकी जानकारी दीपक को हो गई थी और वह फरार हो गया था। दीपक ने बताया कि वह भाग कर किसी तरह केरल के त्रिवेंद्रम पहुंच गया था, जहां एसटीएफ ने उसे गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ दीपक को पांच दिन की सुधार रिमांड पर लेकर प्रयागराज आ रही है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...