1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. UNHRC की 48वें बैठक में भारत ने लगाई पाकिस्तान को जमकर लताड़, कहा- उसे आतंकियों के खुलेआम समर्थन के लिए जाना जाता है

UNHRC की 48वें बैठक में भारत ने लगाई पाकिस्तान को जमकर लताड़, कहा- उसे आतंकियों के खुलेआम समर्थन के लिए जाना जाता है

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) के 48वें बैठक में भारत ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान की जमकर लताड़ लगाई है। और एक बार फिर उसके खूंखार चेहरे को बेनकाब कर दिया। भारत ने साफ तौर पर कहा कि पाकिस्तान एक ऐसा देश है जिसे विश्व स्तर पर आतंकवादियों को खुलेआम समर्थन, प्रशिक्षण, फंडिंग और हथियार देने के लिए जाना जाता है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) के 48वें बैठक में भारत ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान की जमकर लताड़ लगाई है। और एक बार फिर उसके खूंखार चेहरे को बेनकाब कर दिया। भारत ने साफ तौर पर कहा कि पाकिस्तान एक ऐसा देश है जिसे विश्व स्तर पर आतंकवादियों को खुलेआम समर्थन, प्रशिक्षण, फंडिंग और हथियार देने के लिए जाना जाता है। इसमें संयुक्त राष्ट्र की तरफ से प्रतिबंधित आतंकवादी भी शामिल हैं।

भारत ने कहा कि पाकिस्तान राजकीय नीति के तौर पर खुल कर आतंकवादियों का समर्थन कर रहा है। हमारे देश के खिलाफ अपने झूठे और दुर्भावनापूर्ण प्रोपेगेंडा का प्रचार करने के लिए परिषद की तरफ से दिए गए मंचों का दुरुपयोग करना पाकिस्तान की आदत बन गई है।

अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा में पाकिस्तान नाकाम

भारत ने कहा कि, “मानवाधिकार परिषद पाकिस्तान की तरफ से उसके सरकार द्वारा किए जा रहे गंभीर मानवाधिकारों के उल्लंघन से ध्यान हटाने की कोशिशों से अवगत है, जिसमें उसके कब्जे वाले क्षेत्र भी शामिल हैं. प्रासंगिक बहुपक्षीय संस्थान आतंकी वित्तपोषण को रोकने में उसकी (पाकिस्तान की) विफलता और आतंकी संस्थाओं के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की कमी पर गंभीर चिंता जताते रहे हैं। पाकिस्तान सिख, हिंदू, ईसाई और अहमदिया सहित अपने अल्पसंख्यकों के अधिकारों का संरक्षण करने में नाकाम रहा है। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदायों की हजारों महिलाएं और लड़कियां अपहरण, जबरन विवाह और धर्मांतरण का शिकार हुई हैं।”

आओईसी के बयान पर क्या कहा?

इसके साथ ही भारत ने कहा कि हम एक बार फिर ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉर्पोरेशन (ओआईसी) द्वारा केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर के संदर्भ में किए गए जिक्र को खारिज करते हैं। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है। ओआईसी को भारत के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...