1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. दुनिया के इस लिस्ट में सबसे आगे इमरान खान और किम जोंग-उन, विश्व स्तर पर जमकर हो रही बेइज्जती

दुनिया के इस लिस्ट में सबसे आगे इमरान खान और किम जोंग-उन, विश्व स्तर पर जमकर हो रही बेइज्जती

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : पाकिस्तान लगातार अपने हरकतों से खुद को शर्मसार करता रहा है, चाहे वो विश्व स्तर पर हो या खुद के ही देश में। जिसे लेकर इसकी जमकर आलोचना भी होती रहती है। इसके बावजूद भी पाकिस्तान अपने हरकतों से सीखने के बजाये और गलतियां करता जाता है, और पूरे देश की बेइज्जती करा डालता है।

दरअसल, मीडिया की आजादी (Freedom of Press) पर अंकुश लगाने के मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग (North Korean Dictator Kim Jong-Un) उन सबसे आगे हैं। प्रेस वॉचडॉग संस्था रिपोर्टर्स विदआउट बॉर्डर्स (Reporters Without Borders) ने इस संबंध में एक लिस्ट जारी की है, जिसमें ऐसे 37 देशों के राष्ट्रप्रमुखों को शामिल किया गया है जिन्हें प्रेस की आजादी पसंद नहीं। लिस्ट में इमरान खान, किम जोंग उन और हंगरी के पीएम विक्टर ओरबान को प्रेस की आजादी का शिकार करने वाला नेता बताया गया है।

पहली बार महिला नेता भी शामिल

रिपोर्टर्स विदआउट बॉर्डर्स (Reporters Without Borders) की इस सूची में बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना (Sheikh Hasina) और हॉन्ग कॉन्ग की प्रशासक कैरी लाम (Hong Kong’s administrative chief Carrie Lam) को भी रखा गया है। बता दें कि यह पहला मौका है, जब महिला नेताओं को भी इस लिस्ट में जगह मिली है। सोमवार को जारी की गई यह लिस्ट 5 साल बाद आई है। इससे पहले 2016 को यह लिस्ट जारी की गई थी। ग्लोबल प्रेस संस्था ने बताया कि इस लिस्ट में शामिल 37 नेताओं में से 17 के नाम पहली बार जोड़े गए हैं।

पत्रकारों को मनमाने ढंग से जेल भिजवाया

लिस्ट में शामिल नेताओं के बारे में कहा गया है कि इन नेताओं ने न सिर्फ अभिव्यक्ति पर रोक का प्रयास किया है, बल्कि पत्रकारों को मनमाने ढंग से जेल भी भिजवाया है। रिपोर्टर्स विदआउट बॉर्डर्स ने 19 देशों को रेड कलर में दिखाया है। जिसका मतलब है कि ये देश पत्रकारिता के लिहाज से बेहद खराब हैं। इसके अलावा 16 देशों को ब्लैक कोडिंग दी गई है। यानी ये वे देश हैं, जहां स्थिति बेहद खराब होती जा रही है।

इन्हें भी मिली List में जगह

इस सूची में तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैय्यप एर्दोगन, सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान, फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते, ब्राजील के जायर बोलसोनारो को भी शामिल किया गया है। रिपोर्टर्स विदआउट बॉर्डर्स ने इमरान खान को पत्रकारिता का शिकारी बताया गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इमरान के पीछे सेना ने अपनी पकड़ को मजबूत कर लिया है। उनके पीएम बनने के बाद प्रेस पर सेंसरशिप लागू कर दी गई है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इमरान खान के राज में अखबारों का वितरण बाधित किया गया है। मीडिया कंपनियों को विज्ञापन वापस लेने से लेकर तमाम धमकियां दी गई हैं। इतना ही नहीं टीवी चैनलों के सिग्नल को भी जाम किया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads