1. हिन्दी समाचार
  2. kolkata
  3. पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा राजनीति को अलविदा, सोशल मीडिया पर किया पोस्ट, लिखा- वे राजनीति में सिर्फ…

पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा राजनीति को अलविदा, सोशल मीडिया पर किया पोस्ट, लिखा- वे राजनीति में सिर्फ…

पूर्व केंद्रीय मंत्री और पश्चिम बंगाल से बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को अलविदा कह दिया है। उन्होंने सोशल मिडिया के एक पोस्ट के जरिये राजनीति छोड़ने का ऐलान किया है। पोस्ट में सुप्रियो ने लिखा है कि वे राजनीति में सिर्फ समाज सेवा के लिए आए थे। अब उन्होंने अपनी राह बदलने का फैसला लिया है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : पूर्व केंद्रीय मंत्री और पश्चिम बंगाल से बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति को अलविदा कह दिया है। उन्होंने सोशल मिडिया के एक पोस्ट के जरिये राजनीति छोड़ने का ऐलान किया है। पोस्ट में सुप्रियो ने लिखा है कि वे राजनीति में सिर्फ समाज सेवा के लिए आए थे। अब उन्होंने अपनी राह बदलने का फैसला लिया है।

उन्होंने कहा है कि लोगों की सेवा करने के लिए राजनीति में रहने की जरूरत नहीं है। वे राजनीति से अलग होकर भी अपने उस उदेश्य को पूरा कर सकते हैं। उनकी तरफ से इस बात पर भी जोर दिया गया है कि वे हमेशा से बीजेपी का ही हिस्सा रहे हैं और रहेंगे। वे कहते हैं कि उनके इस फैसले को ‘वो’ समझ जाएंगे। उन्होंने कहा कि टीएमसी, कांग्रेस या सीपीएम किसी भी दल ने उन्हें नहीं बुलाया है।

आसनसोल लोकसभा सीट से बीजपी सांसद बाबुल सुप्रियो ने अपने फेसबुक पोस्ट में कहा कि, “अलविदा! मैं किसी भी राजनीतिक दल में नहीं जा रहा हूं। टीएमसी, कांग्रेस, सीपीआई(एम) किसी ने भी मुझे नहीं बुलाया। मैं कहीं नहीं जा रहा हूं… सामाजिक कार्य करने के लिए राजनीति में होने की आवश्यकता नहीं है।”

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से बाबुल सुप्रियो की चुप्पी और बीजेपी में उनकी कम होती भूमिका पर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे थे। अटकलें थी कि बाबुल कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। अब अपनी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए उन तमाम विवादों पर भी बाबुल ने विस्तार से बात की है। उन्होंने कहा है कि पार्टी संग मेरे कुछ मतभेद थे। वो बातें चुनाव से पहले ही सभी के सामने आ चुकी थीं। हार के लिए मैं भी जिम्मेदारी लेता हूं,लेकिन दूसरे नेता भी जिम्मेदार हैं।

बाबुल सुप्रियो ने इस बात का भी जिक्र किया है कि वे लंबे समय से पार्टी छोड़ना चाहते थे। वे पहले ही मन बना चुके थे कि अब राजनीति में नहीं रहना है। लेकिन बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के रोकने की वजह से उन्होंने अपने उस फैसले को हर बार वापस लिया। लेकिन अब क्योंकि उनके कुछ नेताओं संग मतभेद होने शुरू हो गए थे और तमाम विवाद भी जनता के सामने आ रहे थे, ऐसे में उन्होंने राजनीति छोड़ने का फैसला ले लिया।

वैसे हाल ही में मोदी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में भी बाबुल सुप्रियो को जगह नहीं दी गई थी। उन्हें उनके पद से इस्तीफा देना पड़ा था। सोशल मीडिया पोस्ट पर उन्होंने इस बारे में भी लिखा है, लेकिन कुछ भी स्पष्ट रूप से लिखने से बचे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...