1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. 7 वर्षों के शासन काल में दिल्ली सीएम केजरीवाल ने एक भी गेस्ट टीचर को नही किया स्थायी : चौ0 अनिल कुमार

7 वर्षों के शासन काल में दिल्ली सीएम केजरीवाल ने एक भी गेस्ट टीचर को नही किया स्थायी : चौ0 अनिल कुमार

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने जो काम 2013 में दिल्ली के हजारों युवाओं सहित गेस्ट टीचरों को गुमराह करके सत्ता में आने के लिए किया था, केजरीवाल वही प्रक्रिया पंजाब में दोहरा रहे है और झूठी चुनावी घोषणाऐं उत्तराखंड, गोवा, उत्तर प्रदेश में करके वहां की जनता को पूरी तरह भ्रमित करने का काम कर रहे है।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली: दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने जो काम 2013 में दिल्ली के हजारों युवाओं सहित गेस्ट टीचरों को गुमराह करके सत्ता में आने के लिए किया था, केजरीवाल वही प्रक्रिया पंजाब में दोहरा रहे है और झूठी चुनावी घोषणाऐं उत्तराखंड, गोवा, उत्तर प्रदेश में करके वहां की जनता को पूरी तरह भ्रमित करने का काम कर रहे है। संवाददाता सम्मेलन में चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली कांग्रेस अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे 22000 गेस्ट टीचरों के साथ खड़ी है क्योंकि आम आदमी पार्टी ने 2013, 2015 और 2020 के चुनावी घोषणा पत्र में स्थायी करने का वादा किया था परंतु 7 वर्षों के शासन में एक भी अनुबंधित टीचर को स्थायी नही किया।

संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के साथ कम्यूनिकेशन विभाग के चैयरमेन एवं पूर्व विधायक श्री अनिल भारद्वाज और ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अरुण डेढा, महासचिव मीडिया प्रभारी शोएब राणा, लीगल असिसटेंट सुनील शास्त्री और मनीष गौड़ मौजूद थे।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया द्वारा सरकारी तंत्रों का दुरुपयोग करके अपने कार्यकर्ताओं को साथ बैठाकर दिल्ली सचिवालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में झूठा प्रचार कर रहे है कि गेस्ट टीचर खुशहाल है और दिल्ली सरकार इन्हें 50 हजार तक रुपये वेतन दे रही है और इन्हें स्थाई करने के संबध में 2017 में उपराज्यपाल बिल भेजा हुआ है, जबकि सच्चाई बिलकुल विपरित है। उन्होंने कहा कि प्राप्त गेस्ट टीचर की पे-स्लिप में साफ दर्शाया है कि उन्हें केवल 14030 हजार रुपये मिल रहे है जबकि 3/3/2017 के शिक्षा निदेशालय के आदेश  अनुसार पीजीटी को अधिकतम 1445 रुपये प्रतिदिन कार्य दिवसों का ही देना तय किया गया है, जिसके अनुसार 50 हजार महीना वेतन संभव नही है।

चौ0 अनिल कुमार ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा कि एक झूठ को बार-बार बोलकर सच साबित करने वाले चरित्र के व्यक्ति है। उन्हांने कहा कि गेस्ट टीचरों को पक्का करने वाला बिल पिछले 4 वर्षों से उपराज्यपाल के पास लंबित है जबकि आबकारी नीति, विधायकों का वेतन वृद्धि, वेट टैक्स वृद्धि आदि को उन्होंने भाजपा के साथ समझौता करके तुरंत लागू करवा दिया तो फिर शिक्षकां को स्थायी करने के संबध में विपक्ष मौन क्यों है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल बच्चों को शिक्षित करके राष्ट्र निर्माण में योगदान देने वाले शिक्षकों की जीविका को व्यवस्थित करने के लिए स्थायी करने के संबध में राजनीति से उपर उठकर काम करें। उन्होंने कहा कि 26 अक्टूबर 2016 के सुप्रीम कोर्ट के समान कार्य – समान वेतन के आदेश अनुसार दिल्ली सरकार गेस्ट टीचरों को स्थायी करके उन्हें समान वेतन दे, जबकि केजरीवाल सरकार ने आदेश के बावजूद समान कार्य के लिए समान वेतन प्रक्रिया में कोई संशोधन नही किया।

चौ0 अनिल कुमार ने मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को चुनौती देते हुए कहा कि अनुबंधित टीचरों को 50 हजार रुपये महीना वेतन के मामले में 7 वर्षों के दौरान अगर उन्होंने किसी भी एक टीचर को 50 हजार वेतन दिया है, तो किसी भी मंच पर खुली बहस करने को तैयार है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि यदि केजरीवाल पंजाब में गेस्ट टीचरों को स्थाई करने से पहले दिल्ली में 7 वर्षों से अनुबंध पर काम करने वाले टीचरों को स्थायी करें। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अनुबंधित टीचरों के साथ खड़े है और आपके अधिकारों की लड़ाई का हर स्तर पर समर्थन करेंगे।

टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अरुण डेढा, महासचिव मीडिया प्रभारी शोएब राणा ने बताया कि केजरीवाल सरकार द्वारा दिल्ली के सरकारी स्कूलों में गेस्ट टीचरों की स्थिति दिहाड़ी मजदूर से भी बदतर है। शिक्षा मंत्री सचिवालय में गेस्ट टीचरों की जगह अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को बैठाकर सुविधाएें देने का झूठा बखान कर रहे है। वास्तविकता में गेस्ट टीचर्स आर्थिक तंगी झेल रहे है और सरकार द्वारा उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि गेस्ट  टीचरों    को HRA, DA, तथा मेडिकल की सुविधा भी नही दी जाती।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार की अध्यक्षता में कांग्रेस का सदस्यता अभियान के अन्तर्गत गालिब ऑडिटोरियम में डिजीटल सदस्यता ट्रेनिंग कैम्प लगाया।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के नेतृत्व में आज कांग्रेस पार्टी के सदस्यता अभियान के तहत डिजीटल रुप से कांग्रेस का सदस्य बनाने के लिए आज गालिब ऑडिटोरियम में एक ट्रेनिंग कैम्प का आयोजन किया गया जिसमें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता एवं श्री के. राजू ने डिजीटल सदस्यता अभियान की ट्रेनिंग दी। ट्रेनिंग में सभी जिला एवं ब्लाक कांग्रेस कमेटियों के अध्यक्षों ने भाग लिया।

उन्होंने बताया कि कांग्रेस पार्टी की सदस्यता पारम्परिक रुप में ही रहेगी, केवल इस बार सदस्यता पाने का स्वरुप बदलकर 100 प्रतिशत डिजीटल कर दिया गया है। कांग्रेस सदस्य बनने के लिए ब्वदहतमे च्ंतजल ।चच को डाउनलोड करके 3 स्टेप में पंजीकरण करके आई.डी जेनेरेट करनी हागी उसके बाद अपनी जानकारी सब्मिट करके सैल्फी लेकर डिजीटल आई कार्ड बन जाएगा। कांग्रेस का सदस्यता शुल्क 5 रुपये ही रहेगा। उन्होंने बताया डिजीटल सदस्य बनते समय वोटर आईकार्ड नम्बर डालना अनिवार्य होगा, क्योंकि इसके साथ सदस्य की पोलिंग बूथ तक की जानकारी मिलेगा। कांग्रेस का सदस्यता अभियान 31 मार्च, 2022 तक चलाया जाएगा।

ट्रेनिंग कैम्प में प्रदेश चौ0 अनिल कुमार के अलावा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दिल्ली प्रभारी श्री शक्तिसिन्ह गोहिल, के. राजू, कांग्रेस पार्टी के डाटा एनॉलिस्ट चैयरमेन प्रवीण चक्रवर्ती, राहुल बाल, सांसद जोथीमनी, पूर्व सांसद जगदीश टाईटलर, कृष्णा तीरथ, रमेश कुमार, डा0 उदित राज, चौ0 तारीफ सिंह, अ0भा0क0कमेटी सचिव सी.पी. मित्तल, दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री हारुन यूसूफ, डा0 नरेन्द्र नाथ, मंगत राम सिंघल, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जय किशन एवं मुदित अग्रवाल, प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष अमृता धवन, मीडिया कमेटी के चैयरमेन अनिल भारद्वाज, पूर्व विधायक राजेश लिलौथिया, हरी शंकर गुप्ता, विजय लोचव, मालाराम गंगवाल, सुरेन्द्र कुमार, राजेश जैन, निगम पार्षद प्रेरणा सिंह, कोषाध्यक्ष संदीप गोस्वामी, परवेज आलम, एडवोकेट सुनील कुमार, राजेश गर्ग व अरुण गर्ग सहित ब्लाक व जिला अध्यक्ष भी मुख्य रुप से मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...