1. हिन्दी समाचार
  2. क्राइम
  3. Delhi Rape Case: बच्चियों के साथ दुष्कर्म मामले में गृह मंत्रालय का सख्त आदेश, आरोपियों को बख्शा ना जाए

Delhi Rape Case: बच्चियों के साथ दुष्कर्म मामले में गृह मंत्रालय का सख्त आदेश, आरोपियों को बख्शा ना जाए

पिछले कुछ दिनों पहले दिल्ली के नांगलराय और मयूर विहार में बच्चियों के साथ हुए दुष्कर्म की गूंज केंद्रीय गृह मंत्रालय तक पहुंच गई है। अब इस मामले में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सख्त आदेश दिये है। गृहमंत्री शाह के निर्देश पर गृह मंत्रालय के आला अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों के साथ दोनों मामलों की समीक्षा की।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : पिछले कुछ दिनों पहले दिल्ली के नांगलराय और मयूर विहार में बच्चियों के साथ हुए दुष्कर्म की गूंज केंद्रीय गृह मंत्रालय तक पहुंच गई है। अब इस मामले में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सख्त आदेश दिये है। गृहमंत्री शाह के निर्देश पर गृह मंत्रालय के आला अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों के साथ दोनों मामलों की समीक्षा की।

साथ ही दिल्ली पुलिस आलाकमान को स्पष्ट तौर पर निर्देश दिए कि आरोपियों को किसी भी स्तर पर बख्शा ना जाए और 30 दिनों के भीतर दोनों मामलों की चार्जशीट अदालत के सामने पेश की जाए। साथ ही यह भी निर्देश दिए गए कि दोनों ही मामलों की दिल्ली की फास्ट ट्रैक विशेष अदालतों में सुनवाई होगी, जिससे पीड़िता को जल्द से जल्द न्याय मिल सके।

दरअसल, दिल्ली कैंट थाना अंतर्गत नांगलराया निवासी 9 साल की बच्ची की कथित सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी थी। उधर पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में घर के बाहर खेल रही 6 साल की बच्ची से पड़ोस में रहने वाले युवक ने दुष्कर्म किया था। यह बच्ची अभी एम्स में भर्ती है। इन दोनों ही मामलों की गूंज केंद्रीय गृह मंत्रालय तक पहुंची और केंद्रीय गृहमंत्री के निर्देश पर आज गृह मंत्रालय के आला अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस के आलाकमान के साथ मिलकर इन मामलों की समीक्षा की।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस दौरान हुई बैठक में दिल्ली पुलिस की ओर से बताया गया कि नांगलराया में हुए मामले की जांच क्राइम ब्रांच के जरिए बारीकी से की जा रही है। क्राइम ब्रांच ने फॉरेंसिक नमूने भी एकत्र किए हैं, जिन्हें जल्द ही गुजरात के गांधीनगर स्थित देश की सबसे बेहतर लैब में भेजा जाएगा। इस मामले में श्मशान भूमि के मुख्य पुजारी राधेश्याम सहित सलीम कुलदीप और लक्ष्मी नारायण को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मनोवैज्ञानिक और फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम कर रही पूछताछ

मनोवैज्ञानिक और फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम चारों से लगातार पूछताछ कर रही है। साथ ही क्राइम ब्रांच इस मामले में उस वाटर कूलर की भी जांच करा रही है, जिससे कथित तौर पर बच्ची को करंट लगने की बात कही गई थी। इस मामले में आरोप है कि इस बच्ची के साथ आरोपियों ने बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी थी। साथ ही आरोपियों ने बच्ची का जल्द दाह संस्कार कर देने का दबाव भी बनाया था।

इस बैठक के दौरान पूर्वी दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में हुई वारदात को लेकर गृह मंत्रालय के अधिकारियों को बताया गया कि आरोपित तमिलनाडु निवासी समुंगन को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले की हर पहलू से बारीकी से जांच की जा रही है और आरोपी के खिलाफ तथ्य जुटाए जा रहे हैं। ध्यान रहे कि इस बच्ची से आरोपित ने कथित तौर पर मिठाई दिलाने के बहाने से अपने कमरे में ले जाकर दुष्कर्म किया था। बच्ची की तबीयत खराब होने पर उसके परिजनों ने उसे लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां से उसे एम्स रेफर कर दिया गया था। गृह मंत्रालय की बैठक के दौरान पुलिस अधिकारियों ने इस मामले में पुलिसिया लापरवाही के आरोपों को खारिज किया।

फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई

बैठक के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से दिल्ली पुलिस के आलाकमान को स्पष्ट तौर पर निर्देश दिए गए कि इन मामलों में हर संभव सबूत एकत्र किए जाए। जिससे आरोपियों को कोर्ट में बचने का मौका ना मिले। साथ ही अधिकारियों को यह निर्देश दिए गए कि दोनों मामलों में 30 दिनों के भीतर अदालत के सामने आरोप पत्र पेश किए जाएं और इन दोनों ही मामलों की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराई जाए, जिससे पीड़ितों को सही समय पर न्याय मिल सके।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...