1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. चीन ने मंगलवार को एक बड़े रॉकेट को चंद्रमा से सामग्री को वापस लाने के मिशन की लॉन्चिंग के लिए तैनाती कर दी

चीन ने मंगलवार को एक बड़े रॉकेट को चंद्रमा से सामग्री को वापस लाने के मिशन की लॉन्चिंग के लिए तैनाती कर दी

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

बीजिंग:  चीन चार दशको में पहली बार चंद्रमा से सामग्री को वापस लाने का मिशन लॉन्च कर रहा है। लंबे मार्च-5 (रॉकेट) को वेंचाग स्थित स्पेस बेस स्थित लॉन्च साइट पर लाने के लिए अपने हैंगर से ट्रैक्टर के जरिए निकाला गया था। यह चेन्ज मिशन 5 (Chang’e 5)  मिशन अगले हफ्ते की शुरुआत में लॉन्च होना है। इस मिशन में चंद्रमा पर एक लैंडर रखा जाएगा जो सतह के नीचे दो मीटर ड्रिल करेगा और  चट्टानों व अन्य मलबे को धरती पर लाया जाएगा। 1960 और 1970 के दशक के अमेरिकी और रूसी मिशनों के बाद के पहली बार वैज्ञानिकों को  चंद्रमा से लाने वाली सामग्रियों का अध्ययन करने की इजाजत दी जाएगी।

उधर, अमेरिका में स्पेसएक्स के चार अंतरिक्ष यात्री 27 घंटे की उड़ान के बाद मंगलवार (भारतीय समयानुसार) को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आइएसएस) पहुंच गए हैं। ये वसंत तक वहां रहेंगे। यह नासा का पहला ऐसा मिशन है, जिसमें अंतरिक्ष यात्रियों को आइएसएस पर भेजने के लिए किसी निजी अंतरिक्ष यान की मदद ली गई है। सोमवार सुबह (भारतीय समयानुसार) तीन अमेरिकियों और एक जापानी नागरिक को लेकर फॉल्कन रॉकेट ने केनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी।

यह दूसरी बार है जब स्पेस एक्स के यान से अंतरिक्ष यात्रियों को रवाना किया गया था। इस ड्रैगन कैप्सूल यान को इसके चालक दल के सदस्यों ने वर्ष 2020 में दुनियाभर में आई चुनौतियों को देखते हुए ‘रेसिलियंस’ नाम दिया था। बता दें कि मई में स्पेसएक्स ने एक डेमो मिशन पूरा करके यह साबित करके दिखाया था कि वह अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस स्टेशन भेजकर उन्हें सुरक्षित वापस भी ला सकता है। फाल्कन रॉकेट मई में दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर धरती पर वापस लौटा था। इसके बाद ही नासा ने स्पेसएक्स के रॉकेट पर भरोसा जताया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...