1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. कोरोना महामारी में भारत को त्रस्त देख चीन आया सामने , कहा- दुनिया को एकजुट होने की जरूरत है

कोरोना महामारी में भारत को त्रस्त देख चीन आया सामने , कहा- दुनिया को एकजुट होने की जरूरत है

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट – माया सिंह

नई दिल्ली :  कोरोना वायरस के दूसरी लहर से भारत को बेहाल देख अब चीन मदद करने के लिये सामने आया है । चीन ने गुरूवार को कहा है कि कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिये मेडिकल सप्लाई करने के साथ ही भारत को मदद करेगा ।

कोरोना वायरस की भयावह रूप के वजह से भारत की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराने लगा है । पैसा रहते हुये भी लोगों की जान नहीं बच रही है । रोजाना लाखों की तदाद में लोग जान गंवा रहे हैं । अस्पतालों में बेड से लेकर ऑक्सीजन और जरूरी दवाईयों की कमी हो गयी है । लिहाजा, अब चीन ने मदद के लिये हामी भरी है।

अमेरिका के जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के कोविड-19 ट्रैकर के मुताबिक, भारत में कोरोना संक्रमण के अब तक कुल मामले करीब 16 करोड़ हो चुके हैं जो कि अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा है । बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस के पहली लहर के तुलना में दूसरी ज्यादा खतरनाक है क्योंकि इसमें ज्यादा लोगों की मौतें हो रही है । हॉस्पीटल से लेकर श्मशान तक कतार लगी हुई है , यहां तक की श्मशान घाट में रखी आलमारियों के लॉकर में अस्थि कलश रखने की जगह नहीं मिल रही है ।

भारत में महामारी की स्थिति पर एक सवाल के जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने कहा है कि बीजिंग मदद के लिए तैयार है। साथ ही कहा कि कोरोना वायरस मानवजाति का दुश्मन है । इस महामारी से निपटने के लिए पूरी दुनिया को एकजुट होने की जरूरत है ।

इसके अलावा वांग वेनबिन ने कहा, ‘चीन ने गौर किया है कि भारत में कोरोना की स्थिति बद से बदतर हो चुकी है और वहां इस जानलेवा वायरस से निपटने के लिए चिकित्सकीय संसाधनों की स्थायी किल्लत महसूस की जा रही है । हम भारत को हर जरूरी मदद मुहैया कराने के लिए तैयार हैं ताकि वो महामारी पर काबू पा सके ।

हालांकि यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि बीजिंग ने अधिकारिक रूप से दिल्ली को मदद को प्रस्ताव भेजा है या नहीं । गौरतलब है कि पिछले साल चीन के वुहान शहर से ही यह महामारी दूनिया में फैली थी । उस दौरान चीन की स्थिति बेहद खराब चल रही थी तब भारत भी मदद के लिये हाथ बढ़ाया था और मेडिकल सप्लाई कराई थी । भारत ने 2.11 करोड़ रुपये की चीन को 15 टन मेडिकल सप्लाई की थी जिसमें मास्क, ग्लव्स और आपातकालीन चिकित्सा उपकरण शामिल थे ।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...