1. हिन्दी समाचार
  2. business news
  3. सावधान : मोबाइल पर बैंक के OTP के नाम पर हो रहा बड़ा खेल, खाली हो सकता है अकाउंट

सावधान : मोबाइल पर बैंक के OTP के नाम पर हो रहा बड़ा खेल, खाली हो सकता है अकाउंट

भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर लोगों को कोई भी काम बहुत जल्द करने की होड़ होती है, जिससे वो अपने काम को जल्द निपटा सकें। अपनी इसी ज़ल्दबाज़ी के कारण वे कई बार फंसते भी नज़र आते हैं। जिसमें प्रमुख समस्या ऑनलाइन पेमेंट डिजिटलीकरण का है। जिसमें ऑनलाइन ठगी होने की संभावना अधिक रहती है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर लोगों को कोई भी काम बहुत जल्द करने की होड़ होती है, जिससे वो अपने काम को जल्द निपटा सकें। अपनी इसी ज़ल्दबाज़ी के कारण वे कई बार फंसते भी नज़र आते हैं। जिसमें प्रमुख समस्या ऑनलाइन पेमेंट डिजिटलीकरण का है। जिसमें ऑनलाइन ठगी होने की संभावना अधिक रहती है। आपको बता दें कि बैंकिंग सेवाएं जितनी तेजी से डिजिटल हो रही हैं, उतनी ही तेजी से धोखेबाज अपना जाल फैलाते जा रहे हैं।

गौरतलब है कि बैंक जितनी तेजी से अपने सिस्टम को चाक चौबंद बना रहे हैं, उससे दोगुनी तेजी ये साइबर अपराधी सुरक्षा में सेंध लगा रहे हैं। अभी तक बैंक ग्राहकों के खाते में रखे धन की सुरक्षा के लिए डिजिटल ट्रांजेक्शन में टू-फैक्टर-ऑथेंटिकेशन और ओटीपी एसएमएस वैरिफिकेशन का सबसे सुरक्षित जरिया मानते रहे हैं। बैंक के किसी भी प्रकार के लेनदेन और फंड ट्रांसफर के लिए ओटीपी जरूरी हैं। लेकिन फ्रॉड करने वालों ने इसे भी धता बताना शुरू कर दिया है।

हाल में कुछ रिपोर्ट आई हैं जिसमें पता चला है कि फ्रॉड करने वाले ओटीपी सिक्योरिटी में भी सेंध लगा रहे हैं। अक्सर देखा गया है कि हमारे ट्रांजेक्शन के बाद कभी कभी तो तुरंत ओटीपी या मैसेज आ जाता है। वहीं अक्सर काफी समय बाद भी ओटीपी नहीं आता। हम सोचते हैं कि नेटवर्क समस्या होगी। लेकिन यह ओटीपी फ्रॉड की वजह से भी हो सकता है।

कैसे होता है ओटीपी फ्रॉड

साइबर फ्रॉड आपके फोन के मैसेजों को हैक कर लेते हैं। ऐसे में आपके मोबाइल मैसेज को किसी दूसरे फोन पर डायवर्ट कर दिया जाता है। ऐसे में आपका मैसेज हैकर्स के पास भी पहुंच सकता है। हैकर्स आपके ओटीपी वाले मैसेज से ट्रांजैक्शन कर लेते हैं और आपको भनक तक भी नहीं लगती। हालांकि बैंकिंग ट्रांजैक्शन में ये काम काफी मुश्किल है इसमें ऑथेंटिकेशन के कई प्रोसेस से गुजरना पड़ता है। लेकिन आपको फिर भी सावधान रहने की जरूरत है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...