1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. बरेली : मुंह दिखाई में गांव वालों ने सौंपी दुल्हन को ‘प्रधानी’, दुल्हन ने कराया गांव वालों को हेलीकॉप्टर दर्शन

बरेली : मुंह दिखाई में गांव वालों ने सौंपी दुल्हन को ‘प्रधानी’, दुल्हन ने कराया गांव वालों को हेलीकॉप्टर दर्शन

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : पॉवर और पैसा किसे अच्छा नहीं लगता, क्योंकि इन दोनों के बलबूते ही आप कुछ भी कर सकते है। इन दोनों के बिना एक दूसरे का काम निकलना मुश्किल है। वहीं कई लोग अपने पॉवर या पैसों को दिखाने के लिए तरह-तरह के तरीके अपनाते है, जिससे वे लोगों का अपना ताकत या दबंगई दिखा सकें। शायद ऐसा ही कुछ बरेली के इस दुल्हन ने भी सोचा था, जिसे वहां के ग्रामीणों ने मुंह दिखाई में उन्हें प्रधानी सौंपा था। 

दरअसल बरेली के आंवला कस्बे के आलमपुर कोट गांव में एक दुल्हन अपने ससुराल में मुखिया चुने जाने के कुछ दिनों बाद हेलीकॉप्टर से अपनी ससुराल पहुंची, तो अपनी नई प्रधान के स्वागत में पूरा गांव उमड़ पड़ा। इस दुल्हन का नाम सुनीता वर्मा है, जो बदायूं के बीजेपी शहर उपाध्यक्ष वेदराम लोधी की बेटी हैं।

बता दें कि सुनीता ने पिछले साल दिसंबर में ओमेंद्र सिंह से एक अदालत में शादी की थी, जिसके बाद इस शनिवार को उन्होंने हिंदू रीति-रिवाजों के मुताबिक फिर से शादी की और हेलिकॉप्टर में बैठ कर अपने ससुराल पहुंची। जानकारी के मुताबिक सुनीता ने बरेली जिले के आंवला कस्बे के आलमपुर कोट से ग्राम प्रधान पद के लिए चुनाव लड़ने का फैसला किया था, क्योंकि यहां उनका ससुराल है. इसलिए सुनीता ने यहां से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

बगैर प्रचार के बनी प्रधान

श्रीपाल ने सोमवार को बताया कि रिश्ता तय होते ही उन्होंने होने वाली बहू को प्रधान का चुनाव लड़ाने का मन बनाया। गांव की मतदाता सूची में सुनीता का नाम दर्ज कराना था और शादी के लिए पर्याप्त समय नहीं था इसलिए अदालत में शादी का फैसला किया गया। उसके बाद लिस्ट में सुनीता का नाम शामिल करा कर ग्राम प्रधान पद के लिए नामांकन कराया गया।

प्रधान के ससुर ने बताया कि नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने के बाद सुनीता अपने मायके लौट गई। चुनाव के दौरान वह मतदाताओं के बीच नहीं गई लेकिन उन्होंने और सुनीता के पति ओमेंद्र सिंह ने मतदाताओं के बीच जाकर समर्थन में वोट मांगे और ग्रामीणों ने सुनीता को ‘मुंह दिखाई’ देते हुए उसे जीत दिला दी।

उन्होंने बताया कि शनिवार को ओमेंद्र और सुनीता की हिंदू रीति रिवाज से शादी की गई। दुल्हन की विदाई के लिए एक कंपनी से हेलीकॉप्टर बुक किया गया और रविवार दोपहर वह जब सुनीता आलमपुर कोट पहुंचा तो बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने हेलीपैड पर अपनी नई नवेली ग्राम प्रधान बहू का स्वागत किया।

आपको बता दें क उझानी के बहादुरगंज मोहल्ले के निवासी भाजपा के नगर उपाध्यक्ष वेदराम लोधी ने अपनी बेटी सुनीता वर्मा की शादी बरेली निवासी श्रीपाल लोधी के बेटे ओमेंद्र सिंह से तय की थी। पूर्व में ब्लाक प्रमुख रह चुके श्रीपाल का परिवार भी राजनीति में है। खुद उनकी पत्नी भी दो बार प्रधान रह चुकी हैं। इधर, सुनीता का रिश्ता तय होने के बाद पंचायत चुनाव भी आ गए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads