Home उत्तर प्रदेश शहर के बाहरी इलाकों में 10 करोड़ से बांस-बल्ली बदलकर लगेंगे तार-खम्भे

शहर के बाहरी इलाकों में 10 करोड़ से बांस-बल्ली बदलकर लगेंगे तार-खम्भे

7 second read
0
5

गोरखपुर : महानगर के नव विकसित मोहल्लों में बांस-बल्ली के माध्यम से केबल लगाकर बिजली जला रहे करीब 35 हजार परिवारों को बांस-बल्ली के खम्भों से राहत देने की कवायद शुरू हो गई है। ऊर्जामंत्री के निर्देश पर बिजली अभियंताओं ने अपने-अपने क्षेत्र के विभिन्न मोहल्लों का सर्वे कराकर 10 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार कर कारपोरेशन को भेजा है। इसके लिए नगर विधायक की पहल पर पहले ही 1.88 करोड़ रुपये विजिनेस प्लान के तहत स्वीकृत है। अफसरों का कहना है कि कारपोरेशन से प्रस्ताव पर जल्द ही स्वीकृति मिलने की उम्मीद है।

शहर के बाहरी इलाकों में नव विकसित मोहल्लों में जमीन खरीद कर मकान बनाने वाले करीब 35 हजार परिवार बिजली अभियंताओं की मिलीभगत से लम्बी दूरी के कनेक्शन ले लिए। बांस-बल्ली के सहारे केबल लगाकर बिजली इस्तेमाल करते रहे। विभिन्न मोहल्लों के लोगों ने बिजली निगम ने खम्भा व तार लगाने की मांग की। बिजली अभियंताओं ने कहा कि कॉलोनी विकसित करने वाले कॉलोनाईजर्स से कहिए की वह विद्युतीकरण कराए। विभाग के पास इसके लिए कोई बजट व प्रावधान नहीं है। नगर विधायक की मांग पर हाल ही में प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री ने 1.88 करोड़ रुपये बांस-बल्ली के खम्भों को बदलने के लिए विजिनेस प्लान के तहत आवंटित किया।

बीते दिनों ऊर्जामंत्री ने नगरीय क्षेत्र के चारों खण्डों के अभियंताओं से वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से बातचीत कर बांस-बल्ली वाले मोहल्लों का सर्वे कर प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। इसके बाद चारों खण्डों के अभियंताओं ने अपने-अपने क्षेत्र के नवविकसित मोहल्लों का सर्वे कर इस्टीमेट तैयार किया।

सभी कालोनियों में बांस-बल्ली के खम्भे हटाए जाएंगे

मुख्य अभियंता देवेंद्र सिंह ने बताया कि नगर निगम क्षेत्र में आने वाली सभी घोषित कॉलोनियों में लगे बांस बल्ली को हटाकर बिजली के खंभे लगाए जाएंगे। साथ ही झूल रहे तारों को भी बदला जाएगा। कॉलोनाइजरों की पुरानी बनाई कॉलोनियों में भी बांस बल्ली हटेंगे। अधीक्षण अभियंता नगरीय यूसी वर्मा ने बताया कि शहरी क्षेत्र में बांस बल्ली के साथ जर्जर पोल भी बदले जाएंगे। प्रस्ताव में उसे भी जोड़ा गया है। शहरी क्षेत्र में कुल 197 इलाके ऐसे चिन्हित किए गए है। जहां बांस बल्ली पर बिजली के तार झूलने के साथ जर्जर बिजली के खंभे लगे हैं।

कास्तकारों वाली कॉलोनियों में भी लगेगा सीमेंट खम्भा

मुख्य अभियंता ने बताया कि पुराने समय में ग्रामीण इलाकों में कास्तकारों से जमीन खरीद कर बने मकान तक बांस बल्ली पर जाने वाली केबल हटेगी। अगर यहां ऐसे ही कॉलोनी बना दी गई है तो वहां भी बिजली निगम की इन बांस बल्ली को हटाएगा। जैसे, पादरी बाजार के इलाके में कई ऐसी कॉलोनियां हैं जहां कास्तकारों से लोगों ने जमीन खरीदकर अपने मकान बनाए हैं। बिजली निगम के उपभोक्ता भी हैं, इन सभी को लाभ मिलेगा। मुख्य अभियंता ने बताया कि प्रथम चरण में नई बनी निजी कॉलोनियां इस योजना में नहीं आएंगी।

मुख्य अभियंता

शहर के बाहरी इलाकों में बांस-बल्ली हटाने के लिए करीब 10.95 करोड रुपए का प्रस्ताव बनाकर पावर कारपोरेशन को भेज दिया है। जिन-जिन इलाके में बांस-बल्ली के माध्यम से बिजली इस्तेमाल हो रही है। उसे हटवाकर बिजली के नए खम्भे लगाए जाएंगे। ताकि लोगों को बेहतर बिजली मुहैया हो सके।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.