Home Breaking News केद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक की हालत में सुधार, मिलने जाएंगे राजनाथ सिंह

केद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक की हालत में सुधार, मिलने जाएंगे राजनाथ सिंह

6 second read
0
5

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को गोवा के रक्षामंत्री श्रीपद नाईक का स्वस्थ की जानकारी लेने गोवा जाएंगे। केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक की कार का एक्सीडेंट हो गया है। ये हादसा कर्नाटक के कन्नड़ जिले में हुआ है।

हादसे के वक्त वे अपने परिवार के 6 सदस्यों के साथ अंकोला मंदिर में दर्शन करके वापस लौट रहे थे। इसी दौरान उनकी गाड़ी हादसे का शिकार हो गई, जिसमें नाइक घायल हो गए हैं। जबकि केंद्रीय मंत्री की पत्नी और पीए की मौत हो गई है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हादसे की जानकारी देते हुए लिखा है कि रक्षा राज्य मंत्री श्री श्रीपद नाइक के सड़क दुर्घटना में घायल होने के समाचार से मैं स्तब्ध और अत्यंत दुखी हूँ।गोवा के मुख्यमंत्री श्री प्रमोद सावंत से मेरी बातचीत हुई है।श्रीपदजी के इलाज का समुचित प्रबंध राज्य सरकार कर रही है। ईश्वर से प्रार्थना है कि श्रीपदजी जल्दी स्वस्थ हों।

उन्होंने अपने ट्वीट में आगे लिखा रक्षा राज्य मंत्री श्री श्रीपद नाइक के स्वास्थ्य और उनके चल रहे इलाज के संबंध में जानकारी लेने के लिए मैं आज गोवा जाऊँगा। संकट और दुःख की इस घड़ी में ईश्वर उनके परिवार को संबल और शक्ति प्रदान करें।

आप को बता दे कि इस सड़क हादसे में केंद्रीय मंत्री की पत्नी विजया नाइक के सिर में गहरी चोट आई थी। जिसके बाद उन्हें अंकोला के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई है।

इसके अलावा मंत्री के पर्सनल असिस्टेंट की भी दुर्घटना में मौत हो गई है। वहीं नाइक की हालत गंभीर बनी हुई है, जिसके चलते डॉक्टरों ने उन्हें पणजी के बंबोलिम अस्पताल में शिफ्ट करने के लिए कहा है।

आप को बता दे कि गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि नाईक खतरे से बाहर हैं और उनकी हालत स्थिर है। राज्य मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर रक्षामंत्री के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी। उन्होंने लिखा, ‘केंद्रीय मंत्री श्रीपद भाउ नाईक की हालत स्थिर है और गोवा मेडिकल कॉलेज के आइसीयू में उनका इलाज जारी है।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मुख्यमंत्री से बात कर नाई के इलाज की उचित व्यवस्था के बारे में जानकारी ली थी।

Load More In Breaking News
Comments are closed.