Home Breaking News लाल बहादुर शास्त्री की आज 55वीं पुण्यतिथि, कई नेताओं ने किया नमन

लाल बहादुर शास्त्री की आज 55वीं पुण्यतिथि, कई नेताओं ने किया नमन

46 second read
0
10

देश के दूसरे पीएम लाल बहादुर शास्त्री की आज 55वीं पुण्यतिथि है। इस मौके पर बीजेपी और कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दलों और नेताओँ ने देश के पूर्व पीएम को नमन किया है। लाल बहादुर शास्त्री का 11 जनवरी 1966 को ही निधन हुआ था।

बीजेपी पार्टी ने लाल बहादुर शास्त्री को नमन करते हुए अपने ट्वीट में लिखा ‘जय जवान, जय किसान’ के उद्घोषक पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्यतिथि पर शत्-शत् नमन।

कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट करके लिखा जय जवान और जय किसान से जय हिंद का सपना साकार करने की सोच रखने वाले शास्त्री जी का योगदान भारत की राजनीति और विकास में अविस्मरणीय है। पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री जी को कोटिशः नमन।

गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री को नमन करते हुए ट्वीट करके लिखा भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री जी ने एक ओर अपनी सादगी से राजनीति में नए मानक स्थापित किये तो वहीं दूसरी ओर अपने दृढ नेतृत्व से देश को विषम परिस्तिथियों में एकजुट कर जवानों और किसानों में अद्भुत ऊर्जा का संचार किया। राष्ट्रभक्ति व कर्तव्यनिष्ठा के ऐसे अद्वितीय प्रतीक को चरण वंदन।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा “जो शासन करते हैं उन्‍हें देखना चाहिए कि लोग प्रशासन पर किस तरह प्रतिक्रिया करते हैं। अंतत: जनता ही मुखिया होती है” देश को ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा देने वाले, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत शत नमन।

आप पार्टी ने ट्वीट करके लिखा किसानों के सम्मान को सर्वोपरि रखने वाले और जय जवान-जय किसान का नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की पुण्यतिथि पर शत्-शत् नमन।

दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने ट्वीट करके लिखा पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने ‘जय जवान जय किसान’ का नारा दिया था, आज उनके शब्दों को सार्थक करने का वक्त है, कड़कड़ाती ठंड में अपने हक़ के लिए संघर्ष कर रहे किसान भाईयों का साथ देने का वक्त है। श्री लाल बहादुर शास्त्री जी के स्मृति दिवस पर उन्हें कोटि कोटि नमन।

बता दें कि अपनी साफ सुथरी छवि और सादगी के लिए प्रसिद्ध शास्त्री ने प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद नौ जून 1964 को प्रधानमंत्री का पदभार ग्रहण किया था। वह करीब 18 महीने तक देश के प्रधानमंत्री रहे।

उनके नेतृत्व में भारत ने 1965 की जंग में पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी। ताशकन्द में पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान के साथ युद्ध समाप्त करने के समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद 11 जनवरी 1966 की रात में रहस्यमय परिस्थितियों में उनकी मृत्यु हो गयी थी।

Load More In Breaking News
Comments are closed.