1. हिन्दी समाचार
  2. Madhya Pradesh
  3. तीन सिपाहियों ने मिलकर पत्नी और बच्चे के सामने DSP को चौराहे पर जमकर पीटा, एक ने मारा चांटा तो दूसरे ने चबा ली उंगली

तीन सिपाहियों ने मिलकर पत्नी और बच्चे के सामने DSP को चौराहे पर जमकर पीटा, एक ने मारा चांटा तो दूसरे ने चबा ली उंगली

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से अपराध की एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसे जानकर आप भी दंग रह जायेंगे। हमेशा आप सुनते होंगे कि पुलिस वालों ने किसी निर्दोष की पिटाई कर दी है। ऐसा होता भी है कोई आश्चर्य की बात नहीं है। पुलिस की पिटाई का ही एक मामला सामने आया है, लेकिन यहां कोई निर्दोष नहीं बल्कि खुद पुलिस के एक अधिकारी है। जिनको तीन सिपाहियों ने मिलकर अपराधियों की तरह पीट दिया है।

आपको बता दें कि एक एडिशनल एसपी रैंक के एक अफसर को तीन सिपाहियों ने बीच सड़क पर किसी अपराधी की तरह पीट दिया दिया। पुलिस विभाग के लिए यह शर्मनाक घटना भोपाल के डिपो चौराहे पर देसी शराब के ठेके के पास रविवार देर रात की बताई जा रही है। पहले तो मामले को चुपचाप दबाने की कोशिश की गई, लेकिन मीडिया में खबर सामने आने के बाद चारों चतफ फैल गई। उसके बाद आरोपी सिपाहियों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है। बताया जा रहा है कि तीनों आरोपी नशे में धुत थे।

पुलिस जब इस मामले की जॉच की तो पता चला कि एडिशनल एसपी बीएम शाक्य अपनी सरकारी कार से पत्नी और बच्चों के साथ देर रात किसी रिश्तेदार के यहां से लौटकर आ रहे थे। इस दौरान चौराहे पर बैरिकेड लगे हुए थे, जिसे देख वह कार से नीचे उतरे थे और बैरिकेड हटाने लगे। तभी पीछे से तीन सिपाही आए और डीएसपी के साथ गाली-गलौच करते हुए बदतमीजी करने लगे।

DSP शाक्य सिपाहियों को समझाने की कोशिश कर ही रहे थे, उन्होंने कहा- मैं भी एक पुलिस का अधिकारी हूं, तो आरोपी कहने लगे हम भी पुलिस में हैं। आप क्या कर लोगे। इसी दौरान एक कांस्टेबल ने उनके साथ मारपीट करने लगा। वहीं दूसरे सिपाही ने उनकी उंगली तक चबा डाली। जिसके बाद वह तीनो वहां से भाग खड़े हुए। हैरानी की बात यह है कि इन सिपाहियों ने यह शर्मनाक घटना उस दौरान की जब अफसर के साथ उनकी पत्नी और बच्चे मौजूद थे। जब पत्नी ने  बीच-बचाव की कोशिश की, तो आरोपियों ने महिला को भी धक्का दे दिया।

इस मामले की जॉच कर रहे एडिशनल एसपी अंकित जायसवाल ने बताया कि आरोपी तीनों सिपाही सिविल ड्रेस में थे। वहीं बीएम शाक्य भी वर्दी में नहीं थे,  इसलिए एक दूसरे को आइडेंटिफाई नहीं कर पाए और विवाद हो गया। हालांकि, इस मामले में दो सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं तीसरा सिपाही पहले से ही किसी दूसरे मामले में सस्पेंड है।

मिली जानकारी के मुताबिक इन सिपाहियों में से एक क्राइम ब्रांच में है और वहीं दूसरा यातायात में पदस्थ है, जबकि तीसरा जवान एसटीएफ में पदस्थ है। तीनों जवान घटना के वक्त अपने चौथे आरक्षक को रेलवे स्टेशन छोड़कर लौट रहे थे। तभी इन्होने घटना को अंजाम दिया। चारों के खिलाफ तमाम धारा में मामला दर्ज हो गया है और इनकी गिरफ्तारी की कार्रवाई की जा रही है। तीनों आोरपियों की नाम विनोद पाराशर, अनिल जाट,और अवधेश चौधरी है। ये तीनों आपस में दोस्त भी हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads