Home Breaking News एक ही परिवार से तीन कोरोना मरीजों की निकली अर्थी , सदमे में छोटी बहू ने दी जान

एक ही परिवार से तीन कोरोना मरीजों की निकली अर्थी , सदमे में छोटी बहू ने दी जान

0 second read
0
7

रिपोर्ट – माया सिंह

मध्य प्रदेश :  देश में बेकाबू हुई कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर बढ़ता ही जा रहा है। प्रतिदिन नए कोरोना मरीजों और कोविड से मरने वालों की संख्या में भारी बढ़ोतरी दहशत पैदा कर रही है । मध्य प्रदेश के देवास में एक हंसता खेलता परिवार कोरोना महामारी के चपेट में आकर ध्वस्त हो गया । महज एक सप्ताह के अंदर देवास के अग्रवाल समाज के अध्यक्ष बालकिशन गर्ग की पत्नी और दो बेटों की कोरोना से मौत हो गई । इस भयावह मंजर के सदमे को घर की छोटी बहू सहन नहीं कर सकी औऱ उसने भी फांसी लगाकर अपनी जान दे दी ।

जानकारी के मुताबिक अब गर्ग परिवार में बालकिशन के साथ उनकी बड़ी बहू और पोते – पोतियां ही रह गये हैं । एक सप्ताह में पूरा परिवार उजड़ गया । सबसे पहले बालकिशन गर्ग की 75 वर्षीय पत्नी चंद्रकला कोरोना संक्रमित हुई और 14 अप्रैल को उनकी मौत हो गयी । इसके बाद परिवार में कोरोना वायरस अपना पांव पसारते गया ।

मां के मौत के बाद ही 51 साल का बड़ा बेटा संजय भी कोरोना के चपेट में आ गया और महज दो दिन के अंदर ही दूनिया को अलविदा कह दिया और फिर 48 वर्षीय छोटे बेटे स्पेनिश की भी कोरोना की वजह से मौत हो गई । घर से निकले तीन- तीन अर्थी देखने के बाद छोटी बहू रेखा , जिसकी उम्र 45 वर्ष थी , इस सदमें को बर्दाश्त नहीं कर पायी और उसने भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली ।

बताया जा रहा है कि गर्ग परिवार का किराना का थोक व्यापार है । घर की छोटी बहू इंदौर के प्रसिद्ध हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर राजेश अग्रवाल की छोटी बहन थी। इस घटना के बाद पूरे इलाके में कोहराम मचा रखा है , हर कोई बचे हुये परिवार को संभालने की कोशिश कर रहा ।

घटना की जानकारी मिलते ही सिविल लाइंस पुलिस मौक पर पहुंच गई और शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया । बता दें की कोरोना वायरस के संक्रमण से मध्य प्रदेश बेहाल है । मंगलवार की रात दमोह जिला अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई हुई तो लूट मच गई थी ।

Load More In Breaking News
Comments are closed.