Home Breaking News पत्रकार-लेखक अनिल धारकर का देहांत, मुंबई इंटरनेशनल लिटरेरी फेस्टिवल के भी थे संस्थापक

पत्रकार-लेखक अनिल धारकर का देहांत, मुंबई इंटरनेशनल लिटरेरी फेस्टिवल के भी थे संस्थापक

1 min read
0
6

रिपोर्ट: नंदनी तोदी
मुंबई : साल 2020 में जहा एक तरफ कोरोना महामारी ने सबको प्रभावित किया, तो वही कई जानी मानी हस्तियों ने हमे अलविदा कहा। साल 2021 एक उम्मीद लेकर आया ज़रूर है, हालाँकि एक मशहूर पत्रकार-लेखक के निधन से शोक की लहर दौड़ उठी है।

मशहूर पत्रकार और लेखक अनिल धारकर का शुक्रवार को मुंबई में निधन हो गया। उनकी उम्र 74 वर्ष थी। बता दें, ये दुःखद जानकारी अनिल धारकर के पूर्व सहकर्मी ने दी है। सहकर्मी ने बताया कि उनकी गुरुवार को मुंबई के एक अस्पताल में बाइपास सर्जरी हुई थी और वही शुक्रवार सुबह उनका निधन हो गया।

बता दें, अनिल मुंबई अंतरराष्ट्रीय साहित्य महोत्सव के संस्थापक और निदेशक थे जो हर साल नवंबर में आयोजित होता है. इसके साथ साथ ही वो लिटरेचर लाइव के संस्थापक और निदेशक भी थे जो शहर में साल भर साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित करता है।

अनिल धारकर 50 साल से भी अधिक लंबे समय के करियर में स्तंभकार और लेखक के रूप में रहे साथ ही वे फिल्म सेंसर बोर्ड की सलाहकार समिति के सदस्य होने के साथ साथ कई अन्य पदों पर भी रहे। इसके अलावा वे एक टीवी धारावाहिक के प्रोड्यूसर भी थे और एंकर के तौर पर भी काम करते थे और एक समाचार टेलीविजन चैनल का भी नेतृत्व उन्होंने किया। अनिल कई जाने माने पुब्लिकेशन्स के एडिटर भी थे।

अनिल धारकर के निधन पर मीडिया जगत से कई हस्तियों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

जर्नलिस्ट शोभा डे ने ट्वीट कर लिखा, ” अलविदा प्यारे अनिल। एक सुरुचिपूर्ण दिमाग, एक स्टाइलिश लेखक और एक वफादार दोस्त। आप उन सभी से चूक जाएंगे जिनके जीवन को आपने छुआ है। आरआईपी”

वही कोन्ग्रेस्स के वरिष्ठ नेता और सांसद शशि थरूर ने भी अपना दुःख व्यक्त करते हुए अनिल धारकर को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “@anilDharker के गुज़र जाने की खबर से हैरान और दुःख हुआ। साहित्य की दुनिया उसके बिना एक जैसी नहीं होगी। उनकी स्वभाव, बुद्धि और बुद्धिमत्ता, उनके व्यापक और उदार स्वाद (हमेशा अच्छे लेखन के लिए सम्मान के साथ शादी) और संगठन के लिए उनकी प्रतिभा और ऊर्जा उन्हें अपूरणीय बनाती है।”

इसके अलावा गीतकार और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के चेयरमैन प्रसून जोशी ने ट्वीट किया, ‘‘अनिल धारकर के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। जिंदगी के बारे में हमारे बीच जो चर्चा होती थी उसे याद करूंगा। वह एक प्रेरक सोच वाले, साहित्य एवं कला को संवारने वाले शख्स थे।”

बॉलीवुड एक्टर फरहान अख्तर ने भी ट्वीट कर अनिल धारकर को श्रद्धांजलि दी है. उन्होंने लिखा, ” आरआईपी अनिल धारकर। कला और साहित्य के प्रति आपकी लगन ने हमेशा प्रेरणा के रूप में काम किया। आयशा और उनके परिवार के बाकी सदस्यों के प्रति गहरी संवेदना।”

आपको बता दें, अनिल भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (ICCR), दूरदर्शन, चिल्ड्रन्स फिल्म सोसाइटी ऑफ इंडिया और भारत में फिल्मों के निर्माण के लिए कई फिल्म फंडों के सलाहकार बोर्डों के सदस्य भी थे। इतना ही नहीं, उन्हें पत्रकारिता के लिए कई पुरस्कार भी मिले हैं।

Load More In Breaking News
Comments are closed.