Home देश मारथोमा ईसाई समुदाय के प्रमुख जोसेफ मार थोमा का 90 साल की उम्र में निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख

मारथोमा ईसाई समुदाय के प्रमुख जोसेफ मार थोमा का 90 साल की उम्र में निधन, पीएम मोदी ने जताया दुख

34 second read
0
10

केरल के थिरुवल्ला (पथानमथिट्टा) जिले में रविवार की सुबह मारथोमा ईसाई समुदाय के आध्यात्मिक प्रमुख जोसेफ मार थोमा का 90 साल की उम्र में निधन हो गया है। साल 2007 में वो मारथोमा ईसाई समुदाय के प्रमुख बनाए गए थे।

जून की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके 90वें जन्मदिन के अवसर पर समारोहों का उद्घाटन किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोसेफ मार थोमा के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

मारथोमा ईसाई समुदाय के बहुत सारे अनुयायी हैं। इनमें से कई जोसेफ मार थोमा को एक ऐसे नेता के तौर पर देखते हैं जो दूरदृष्टि और करुणा के साथ मानवता की भलाई के लिए खड़े रहते हैं। मारथोमा सीरियन चर्च केरल में स्थित एक सुधारित प्राच्य सीरियाई चर्च है।

मारथोमा ईसाई समुदाय के सदस्यों का मानना है कि वे सेंट थॉमस के वंशज हैं, जो यीशु मसीह के 12 ईसाई धर्म के प्रचारकों में से एक हैं। यह स्वदेशी चर्च देश में कई शैक्षिक और स्वास्थ्य संस्थान भी चलाता है।

बता दें कि मारथोमा ईसाई समुदाय को फॉलो करने वालों की अच्छी-खासी संख्या है। इनमें से कही लोगों ने जोसेफ मार थोमा को दूरदृष्टि और करुणा से भरे लीडर के तौर पर पाया है। इनका कहना है कि जोसेफ हमेशा मानवता की भलाई के लिए खड़े रहे।

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता संग्राम में मार थोमा चर्च की भूमिका की भी प्रशंसा की थी। उन्होंने कहा, “द मार थोमा चर्च ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भूमिका निभाई है. चर्च राष्ट्रीय एकीकरण की दिशा में काम करने में सबसे आगे रहा है।”

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि ‘सरकार का मार्गदर्शन भारत का संविधान करता है और इसलिए सरकार धर्म, लिंग, जाति, नस्ल या भाषा के आधार पर भेदभाव नहीं करती है।’

Load More In देश
Comments are closed.