Home सियासत लोकसभा में राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि वह झूठ फैला रहे हैं

लोकसभा में राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि वह झूठ फैला रहे हैं

4 second read
0
15

कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर लोकसभा में तीखे हमले किए, उन पर झूठ फैलाने का आरोप लगाया और कहा कि वह बजट को स्वीकार नहीं कर सकते, लेकिन लोग करेंगे।

लोकसभा में केंद्रीय बजट पर आम चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए, ईरानी ने कहा कि उन्होंने गांधी से इस बजट का समर्थन करने की अपेक्षा नहीं की, जिसका उद्देश्य सरकार के ‘आत्मानिर्भर भारत ’अभियान को बढ़ावा देना और देश को एकजुट करना है।

इससे पहले दिन में, गांधी ने आरोप लगाया था कि तीन नए कृषि कानून देश की खाद्य सुरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचाएंगे, साथ ही “किसानों की रीढ़ को भी तोड़ेंगे” और कहा कि देश को केवल चार लोगों द्वारा ‘हम करते हैं, हमरे द्वारा चलाया जा रहा है’ ‘दृष्टिकोण।

एक नाटकीय कदम में, गांधी ने अपने पार्टी के सदस्यों और TMC और DMK के लोगों के नेतृत्व में कानून के खिलाफ चल रहे आंदोलन के दौरान किसानों की मौत पर शोक व्यक्त करने के लिए दो मिनट का मौन धारण किया।

उन्होंने कहा बजट पर चर्चा ना कर संवैधानिक तरीके से पारित कानूनों को ‘काला’ कहा जाना संविधान की अवहेलना है। यह बजट भारत को आत्मनिर्भर बनाने और जोड़ने का बजट है और जिन लोगों ने दिल्ली में भारत के टुकड़े होने का समर्थन किया वो भारत को समर्पित इस बजट का समर्थन कभी नहीं कर पाएंगे।

ईरानी बोली जिस बजट में ग्रामीण इंफ्रास्ट्रक्चर विकास का प्रावधान है उस बजट पर चर्चा करना कथित सज्जन को स्वीकार नहीं क्योंकि अमेठी के अपने कार्यकाल में उन्होंने 194 पंचायतों को ‘पंचायत भवन’ से वंचित रखा। अमेठी लोकसभावासियों की इन सभी ज़रूरतों को पूरा करने वाले इस बजट का मैं समर्थन करती हूँ।

उन्होंने दावा किया कि विरोध प्रदर्शन के दौरान “200 किसानों” की मृत्यु हो गई है, उन्होंने कहा कि वह ऐसा कर रहे थे क्योंकि सरकार ने उन्हें श्रद्धांजलि नहीं दी है।

भाजपा ने ईरानी को, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के दौरान अमेठी में गांधी को हराया था, ने कांग्रेस नेता को जवाब दिया। गांधी का नाम लिए बगैर, ईरानी ने सोचा कि कोई कैसे झूठ की आड़ में एक इमारत का निर्माण कर सकता है और अपनी पीठ दिखा कर चल सकता है।

ईरानी ने कहा कि वह बजट को स्वीकार नहीं कर सकते, लेकिन लोग उस बजट को स्वीकार करेंगे जो लोगों को एकजुट करने और देश को तोड़ने के लिए नहीं है।

उन्होंने कांग्रेस पर एमएसपी के बारे में झूठ फैलाने का आरोप लगाया, जिसे सरकार बार-बार कहती है कि यह जारी रहेगा। ईरानी यह जानना चाहती थीं कि कांग्रेस सरकारें किसानों के कष्टों को कम करने के लिए क्या करती हैं, विशेषकर अमेठी के किसानों को, जो गांधी के पारंपरिक संसदीय क्षेत्र हैं।

अगर किसी ने अमेठी के लोगों के लिए कुछ किया है, तो क्या वह शौचालय का निर्माण कर सकता है, सड़कों का निर्माण कर सकता है या अन्य सार्वजनिक सुविधाएं दे सकता है, यह (प्रधानमंत्री) “नरेंद्र दामोदरदास मोदी” था, उसने कहा और अपने भाषण के दौरान बार-बार इस पर जोर दिया।

मंत्री ने कहा कि यह मोदी सरकार थी जिसने लॉकडाउन अवधि के दौरान 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया था। उन्होंने कहा कि अमेठी के 3.18 लाख लोगों को मुफ्त राशन मिला है।

ईरानी ने कहा कि अमेठी में अच्छे अस्पतालों, सड़कों और आधिकारिक भवनों जैसी बुनियादी सुविधाओं का अभाव था और कांग्रेस सरकार ने वर्षों तक कुछ नहीं किया। मोदी सरकार ने इनमें से कई परियोजनाएं शुरू की हैं।

कांग्रेस के इस आरोप पर कि तीन कृषि कानूनों के कारण किसान अपनी जमीन खो देंगे, उसने कहा कि यह कांग्रेस समर्थित ट्रस्ट था जिसने अमेठी में किसानों से संबंधित जमीन छीन ली।

बजट में बस सेवा को सुदृढ करने के लिए प्रावधान पर चर्चा करने की जगह उठकर जाने वाले सज्जन 30 साल में अमेठी में तिलोई बस अड्डा तक बना नहीं पाए। जहां उनकी चार पीढ़ी अमेठी को सिर्फ सपना दिखाती रही, वहीं दूसरी तरह मोदी जी के कार्यकाल में सड़क एवं रेल मार्गों का जाल बिछाया गया।

किसानों का हितैषी होने का ढोंग करने वाले सज्जन, कृषि मंत्री जी के द्वारा बार-बार आपत्ति वाले प्रावधानों के बारे में पूछे जाने पर उत्तर नहीं दे सके और MSP के बारे में झूठ बोलते रहे। इतना ही नहीं अपने कार्यकाल में इन्होंने अमेठी में विकास के नाम पर किसानों की ज़मीन तक हड़प ली।

जिस सज्जन के कार्यकाल में अमेठी के ज़िला अस्पताल में सी.टी. स्कैन मशीन तक नहीं थी वह आज बजट की चर्चा से पीठ दिखाकर चले गए। पीएम नरेंद्र मोदी जी के कार्यकाल में आज अमेठी में मेडिकल कॉलेज, प्रशासनिक भवनों एवं जनहित में शौचालयों के निर्माण का प्रावधान इस बजट ने सुनिश्चित किया है।

Load More In सियासत
Comments are closed.