Home mumbai सचिन वाजे ने खोला चौंकाने वाला राज़, अब डिप्टी CM अजीत पवार पर ‘जबरिया वसूली’ का आरोप

सचिन वाजे ने खोला चौंकाने वाला राज़, अब डिप्टी CM अजीत पवार पर ‘जबरिया वसूली’ का आरोप

2 second read
0
227

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

मुंबई: महाराष्ट्र की सरकार की सरकार को हिला देने वाला एंटीलिया और मनसुख हिरेन की हत्या का मामला एक नये रोचक मोड़ पर पहुंच गया है। इस मामले में फंसे महाराष्ट्र के पुलिस अधिकारी सचिन वाजे ने एक बार फिर अपने बयान से महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर तलवारें लटका दी है। सचिव वाजे के इस बायान से उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार और ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर अनिल परब भी फंसते दिखाई दे रहे हैं। वाजे ने इन दोनों नेताओं पर जबरन वसूली कराने का आरोप लगाया है। आपको बता दें कि सचिन वाजे 9 अप्रैल तक कस्टडी में है।

इससे पहले पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने उद्धव ठाकरे को एक चिठ्ठी लिखकर 100 करोंड़ के अवैध वसूली का तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाया था। जिसके बाद उनको अपने पद से इस्तीफा देने पड़ गया। इसी कड़ी में वाजे ने भी अजीत पवार और अनिल परब पर भी गंभीर आरोप लगा दिया है।

आपको बता दें कि सचिन वाजे ने कोर्ट में पेशी के दौरान लिखित बयान पेश किया है। यह बयान NIA की कस्टडी के दौरान दिया था। इसमें वाजे ने महाराष्ट्र के ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर अनिल परब और डिप्टी सीएम अजीत पवार पर जबरिया वसूली के आरोप लगाए हैं। इसी मामले में अनिल देशमुख को गृहमंत्री का पद छोड़ना पड़ा था।

सचिन वाजे ने अपने इस बयान में कहा है कि अजीत पवार के एक बेहद करीबी आदमी ने गुटखा कारोबारियों से 100 करोड़ रुपए की अवैध वसूली की बात उसे बताई थी। वाजे के इस पत्र से महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।

वहीं ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर और शिवसेना नेता अनिल परब अपने ऊपर लगे आरोपों को नकार रहे हैं, लेकिन यह तय है कि इस मामले से भूचाल आ गया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने ट़्वीट करके कहा कि अब भाजपा यहां भी वैसी ही दवाब बनाएगी, जैसा अनिल देशमुख के मामले में बनाया था।

 

Load More In mumbai
Comments are closed.