Home आगरा प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट नल से जल को लेकर मंथन, आगे क्या है रणनीति जानें ?

प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट नल से जल को लेकर मंथन, आगे क्या है रणनीति जानें ?

1 second read
0
10

रिपोर्ट : मोहम्मद आबिद
आगरा : केंद्रीय राज्यमंत्री जल शक्ति तथा सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता रतनलाल कटारिया ने सर्किट हाउस में एक मीटिंग का आयोजन किया जिसमें उन्होंने यमुना को लेकर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नल से जल को लेकर अधिकारियों से बातचीत की है।

केंद्रीय राज्यमंत्री रतनलाल कटारिया ने कहां की अगले महीने हरिद्वार में लगने जा रहे कुंभ मेले के दौरान एक बूंद भी गंदे पानी की गंगा नदी में नहीं करने देंगे। नमामि गंगे को लेकर जितने भी हरिद्वार तक प्रोजेक्ट हैं लगभग पूरे हो चुके हैं राज्य सरकार भी कुंभ की सफलता के लिए दिन रात काम कर रही है।

गंगा नदी की स्वच्छता व निर्मलता के साथ-साथ यमुना नदी के लिए भी कार्य लगातार किए जा रहे हैं। अभी हाल में यमुना के ऊपर 4000 करोड़ रुपए से भी  ज्यादा के प्रोजेक्ट  सारे एरिया में जहां जहां से गंगा के साथ यमुना आती है, उनके लिए एसटीपी भी बनाने योजनाएं सरकार की चल रही है, उनमें से कुछ योजनाएं पूरी भी हो गई है

केंद्रीय राज्यमंत्री रतनलाल कटारिया ने कहा की ताजमहल की बैक साइड में जाकर यमुना का निरीक्षण किया है। अभी भी बहुत कुछ करना है। अधिकारियों ने हमें बताया है कि मंटोला नाला अभी भी अनट्रीटेड है। उसके लिए साढे आठ सौ करोड रुपए की योजना वर्ल्ड बैंक वर्ल्ड बैंक को गई हुई है, उस पर जैसे ही काम शुरू होता है तो 2022 के अंत तक एक बहुत बड़ा परिवर्तन यमुना के पानी में आपको देखने को मिलेगा।

 

कृषि कानून पर बोलते हुए उन्होंने कहा किसान आंदोलन का एपी सेंटर मेरा ही लोकसभा क्षेत्र रहा है किसान हमारा अन्नदाता है और राष्ट्र निर्माण में बड़ी भूमिका निभाता है साथ ही प्रधानमंत्री जी ने लोकसभा में कहा है कि कोई भी कानून स्थाई नहीं है कानून जनता की भलाई के लिए बनाए जाते हैं अगर कृषि कानून में कहीं भी कोई अड़चन है या दिक्कत है तो उसके लिए भी करीब 8 बार सरकार की ओर से प्रपोजल दिया जा चुका है साथ ही कहा है कि जो भी मांगे हैं उन्हें किसान बताएं उन पर विचार किया जाएगा।

Load More In आगरा
Comments are closed.