Home उत्तराखंड आपदा में अनाथ हुए बच्चों की पतंजलि योगपीठ ने ली जिम्मेदारी, बाबा रामदेव और बालकृष्ण करेंगे देखरेख

आपदा में अनाथ हुए बच्चों की पतंजलि योगपीठ ने ली जिम्मेदारी, बाबा रामदेव और बालकृष्ण करेंगे देखरेख

0 second read
0
8

रिपोर्ट: मोहम्मद आबिद
चमोली: उत्तराखंड के चमोली में नंदा देवी ग्लेशियर का हिस्सा टूट जाने के कारण ऋषिगंगा घाटी में अचानक विकराल बाढ़ आ गई जिससे काफी नुकसान हुआ और कई लोगों ने अपनी जान गंवाई है।जिसको लेकर बाबा रामदेव की योगपीठ पतंजलि ने अनाथ हुए बच्चों के लिए  अहम कदम उठाया है और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है और बच्चों को बेहतर शिक्षा देने का भी आश्वासन दिया है।

बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि जैसे ही चमोली में आपदा के बारे में जानकारी हुई तो पूरे मामले पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बातचीत की गई है और आश्वासन दिया गया है जिसमें आपदा में अनाथ हुए बच्चों की जिम्मेदारी लेने की भी वार्ता की गई और पतंजलि उन बच्चों को अच्छी शिक्षा के साथ पालन पोषण की जिम्मेदारी भी उठाएगा।

बालकृष्ण का कहना है कि 2013 केदारनाथ आपदा के बाद 100 अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी हमारे द्वारा ली गई थी उसमें से कुछ बच्चे चले गए मगर अभी भी उनमें से बहुत सारे बच्चे पतंजलि योगपीठ में अच्छी शिक्षा ले रहे हैं वहीं बालकृष्ण में इस आपदा में मारे गए लोगों के लिए भगवान से प्रार्थना की उनके परिवार भी हिम्मत और साहस रखें और जितने भी मदद उन परिवार को चाहिए हम देने के लिए तैयार हैं।

2013 में केदारनाथ आपदा के बाद भी पतंजलि योगपीठ ने काफी कार्य किया गया था और तकरीबन 100 से ऊपर बच्चे जो अनाथ हुए थे उनकी अच्छी शिक्षा और पालन-पोषण की जिम्मेदारी पतंजलि योगपीठ द्वारा संभाली गई थी और आज भी बेहतर वो अनाथ बच्चे पतंजलि योगपीठ में बेहतर शिक्षा ले रहे हैं।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.