Home बिज़नेस एशिया की सबसे अमीर शख्सियतों में शुमार अलीबाबा समूह के मालिक जैक मा इस समय कहां है इसे लेकर रहस्य गहराता जा रहा

एशिया की सबसे अमीर शख्सियतों में शुमार अलीबाबा समूह के मालिक जैक मा इस समय कहां है इसे लेकर रहस्य गहराता जा रहा

3 second read
0
1

रिपोर्ट्स के अनुसार, पिछले दो महीनों से वे किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं देखे गए हैं। दरअसल, जैक मा ने पिछले साल अक्टूबर महीने में किसी मुद्दे पर चीनी सरकार की आलोचना की थी। रिपोर्ट्स के अनुसार, इसके बाद से ही जैक मा की कोई सार्वजनिक उपस्थिति दर्ज नहीं हुई है।

द टेलिग्राफ के अनुसार, जैक मा के बारे में रहस्य तब और बढ़ गया, जब वे अपने टैलेंट शो (Africa’s Business Heroes) के फाइनल एपिसोड में भी नहीं दिखाई दिए। मा की जगह इस एपिसोड में अलीबाबा के एक अधिकारी ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी थी। अलीबाबा के प्रवक्ता के अनुसार, मा अपने व्यस्त कार्यक्रम के चलते इस एपिसोड में भाग नहीं ले पाए थे। हालांकि, कार्यक्रम की वेबसाइट से मा की तस्वीर हटने के बाद रहस्य और गहरा गया।

जैक मा ने अक्टूबर, 2020 में चीन के वित्‍तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की आलोचना की थी। उन्होंने शंघाई में दिए भाषण में यह आलोचना की थी। जैक मा ने सरकार से आह्वान किया था कि वह ऐसे सिस्‍टम में बदलाव करे, जो कारोबार में नवाचारों के प्रयासों को दबाने का काम करते हैं। मा के इस भाषण के बाद चीन की सत्‍तारूढ़ कम्‍युनिस्‍ट पार्टी मा पर बिगड़ गई थी। इसके बाद से मा के एंट ग्रुप सहित कई कारोबारों पर असाधारण प्रतिबंध लगाए जाने शुरू हो गए थे।

मीडिया के प्रति काफी सहज रहने वाले जैक मा का एंट ग्रुप के IPO के निलंबन के बाद से ही कोई सार्वजनिक उपस्थिति दर्ज नहीं कराना सभी को चौंका रहा है। आपको बता दें कि 2016 और 2017 में चीन के कुख्यात भ्रष्टाचार विरोधी अभियान के दौरान कई अरबपति गायब हो गए थे। इनमें से कुछ दोबारा दिखाई दिए। उन्होंने बताया था कि वे अधिकारियों की मदद कर रहे थे। जबकि, अन्य कभी नहीं लौटे।

जैक मा द्वारा सत्ता विरोधी रुख अपनाए जाने के बाद पिछले वर्ष दिसंबर में चीन के शीर्ष बाजार नियामक ने प्रतिस्पर्धा विरोधी तरीकों में शामिल होने के आरोपों के चलते अलीबाबा के खिलाफ जांच शुरू कर दी। साथ ही उनके फिनटेक वेंचर एंट ग्रुप के लिए एक सुधार योजना भी तैयार की। टेकक्रंच की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के सेंट्रल बैंक ‘पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना’ ने बातचीत के लिए एंट ग्रुप को 26 दिसंबर को बुलाया था। इस दौरान बैकिंग प्राधिकरण ने एंट ग्रुप के लिए पांच सूत्री अनुपालन एजेंडा रखा।

एजेंडे के तहत एंट ग्रुप को लेनदेन में अधिक पारदर्शिता लाने का आदेश दिया गया था। कंपनी पर आरोप है कि बाजार में अपनी पोजिशन का इस्तेमाल अपने प्रतिद्वंदियों को बाहर करने में किया है और उपभोक्ताओं के अधिकारों और हितों को नुकसान पहुंचाया है। उधर, एंट ग्रुप का कहना है कि उसने सभी नियामक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक आंतरिक सुधार कार्यबल स्थापित किया है।

बता दें कि शिन्हुआ न्यूज एजेंसी ने सबसे पहले यह खबर दी थी कि द पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना, चाइना बैंकिंग और बीमा नियामक आयोग, चीनी प्रतिभूति नियामक आयोग सहित सरकार की विभिन्न एजेंसियां पूछताछ के लिए एंट ग्रुप को बुला सकती हैं।

अलीबाबा की एंट ग्रुप में 33 फीसदी हिस्सेदारी है। पिछले महीने एंट ग्रुप ने 37 अरब डॉलर के आइपीओ को शंघाई और हांगकांग स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट कराने के लिए आवेदन किया था, लेकिन चाइनीज रेगुलेटर्स ने इसे रोक दिया था।
Load More In बिज़नेस
Comments are closed.