1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. नेतन्याहू पर मंडराने लगा संकट, 6 सांसदों वाले नेफ्टाली बेनेट बनेंगे अगले प्रधानमंत्री, जानें भारत समेत दुनिया पर प्रभाव

नेतन्याहू पर मंडराने लगा संकट, 6 सांसदों वाले नेफ्टाली बेनेट बनेंगे अगले प्रधानमंत्री, जानें भारत समेत दुनिया पर प्रभाव

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: बेंजामिन नेतन्याहू  12 साल तक इजरायल के प्रधानमंत्री रहे, लेकिन अब उनकी कुर्सी जानी तय हो गई है। यामिना पार्टी के अध्यक्ष नफ्ताली बेनेट इजरायल में नई सरकार बनाएंगे। इजरायल के इस घटनाक्रम पर दुनियाभर की निगाहें तो टिकी ही हैं, इसके साथ ही बात करें  फिलिस्तीन की तो शायद यह देखने का सबसे ज्यादा इंतजार होगा कि सत्ता परिवर्तन से उसके हालात पर क्या असर पड़ता है। वो भी तब जब देश के अंदर नए प्रधानमंत्री को लेकर फिलहाल बहुत ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं। टाइम्स ऑफ इजरायल से दो सीनियर नेताओं ने कहा है कि उन्हें बहुत ज्यादा बदलाव होता नहीं दिख रहा है।

आपको बता दें कि फतब सेंट्रल कमिटी का हिस्सा रह चुके नासिर अल-किदवा की मानें तो बेनेट और ज्यादा कट्टरपंथी ही साबित होंगे। नासिर फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास के आलोचक हैं। येश यतीद चीफ यैर लापिद के साथ अभी तक के समझौते के मुताबिक बेनेट बारी-बारी से PM पद संभालेंगे। इस बारे में अंतिम फैसला अभी किया जाना है। लापिद के मुताबिक अभी नई सरकार बनने के रास्ते में कुछ दिक्कतें हैं।

इजरायल के अगले प्रधानमंत्री के रुप में नेफ्टाली बेनेट को कुर्सी मिलनी तय मानी जा रही है। आपको बता दें कि इस साल मार्च में हुए चुनाव में नेतन्याहू की लिकुड पार्टी को बहुमत नहीं मिल सका था। चुनाव में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी होन के बावजूद इजरायली राष्ट्रपति रुवेन रिवलिन ने नेतन्याहू को सरकार बनाने और 2 जून तक बहुमत साबित करने का आदेश दिया था।

बेंजामिन नेतन्याहू के तमाम प्रयास और जोड़तोड़ के बावजूद लिकुड पार्टी अपने सहयोगियों को साध नहीं सकी। वहीं, उनके विरोधी नेता येर लेपिड ने ऐलान किया है कि इजरायल की विपक्षी पार्टियों के बीच नई सरकार बनाने को लेकर सहमति बन गई है। इस नए गठबंधन में इजरायल की आठ पार्टियां शामिल हैं। लेपिड ने बताया कि सहमति के अनुसार, पहले यामिना पार्टी के प्रमुख नेता नेफ्टाली बेनेट इजरायल के प्रधानमंत्री बनेंगे। दो साल बाद उनकी जगह येश एटिड पार्टी के नेता येर लेपिड खुद यह दायित्व संभालेंगे।

खास बात यह है कि नेतन्याहू की सरकार के खिलाफ बने इस गठबंधन में इजरायल में अरब समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाली राम पार्टी भी शामिल है। इजरायली मीडिया में इस समझौते पर दस्तखत करते विपक्षी नेताओं की एक तस्वीर भी वायरल हो रही है, जिसमें येश एटिड, नेफ्टाली बेनेट और राम पार्टी के मंसूर अब्बास दिखाई दे रहे हैं। नए समझौते के बारे में इजरायली राष्ट्रपति को विपक्षी दलों ने सूचित कर दिया है। जल्द ही संसद का सत्र बुलाकर बहुमत साबित किया जाएगा, जिसके बाद नेफ्टाली बेनेट इजरायल के नए प्रधानमंत्री की शपथ लेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads