1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल दूसरी बार मोदी मंत्रिमंडल का बनीं हिस्सा, जानें इनकी रोचक राजनीतिक सफर

मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल दूसरी बार मोदी मंत्रिमंडल का बनीं हिस्सा, जानें इनकी रोचक राजनीतिक सफर

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

नई दिल्ली: पीएम मोदी के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल मंत्रिमंडल के सदस्य के तौर पर दूसरी बार शपथ ग्रहण की हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान साल 2016 में अनुप्रिया पटेल केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। वहीं दूसरे कार्यकाल में हुए पहले कैबिनेट विस्तार में 43 नेताओं में सात नाम उत्तर प्रदेश से हैं। जिसमें अनुप्रिया पटेल भी शामिल हैं।  

आपको बता दें कि अनुप्रिया पटेल पिछड़ें वर्ग की समस्याओं के निदान के लिए अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की तर्ज पर केंद्र सरकार में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मंत्रालय का गठन की मांग करती रही है। अब मंत्रिमंडल का हिस्सा बनने के बाद देखना होगा कि उनका यह प्रयास कितना सफल होगा। अनुप्रिया पटेल की बात करें तो राजनीति उनको विरासत में मिली है। उनके पिता डा सोनेलाल पटेल ने पिछड़ा वर्ग OBC खासकर कुर्मी समाज के उत्थान के लिये अपना दल की स्थापना की।  28 अप्रैल 1981 को कानपुर जन्मीं अनुप्रिया ने अपनी इंटरमीडियेट तक की पढ़ाई कानपुर से की। इसके बाद स्नातक की पढ़ाई साल 2001 में दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रसिद्ध लेडी श्रीराम कालेज से की।

इनके व्यक्तिगत जीवन की बात करें तो 27 सितम्बर 2009 को उनका विवाह आशीष पटेल से हुआ। लेकिन विवाह के कुछ दिनो बाद ही उनके पिता डा सोनेलाल पटेल की एक सड़क हादसे में मृत्यु हो गयी थी। इसके बाद राजनीति की समझ रखने के बाद भी अनुप्रिया ने राजनीति की बजाय शिक्षा के क्षेत्र में अपना ध्यान लगाया और 2010 में उन्होने कानपुर विश्वविद्यालय एमबीए की डिग्री हासिल की। इसके बाद कुछ दिनों तक अनुप्रिया ने एमिटी विश्वविद्यालय में अध्यापन कार्य किया। इस बीच उनका रूझान समाज सेवा में रहा जिसके चलते वह यूपी के विभिन्न हिस्सों का दौरा करती रहीं और जनता की समस्यायों से रूबरू हुयी। साल 2012 में पहली बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में वाराणसी के रोहनिया क्षेत्र से अपना दल उम्मीदवार के तौर पर बसपा प्रत्याशी को 17583 वोटों से हराया और राजनीति के गलियारों में चल पड़ी।

फिर अनुप्रिया ने पीछे मुड़कर नहीं देखा साल 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होने मिजार्पुर से चुनाव लड़ा और 436536 मतों से जीत का परचम लहराया। इस चुनाव में उन्होने सपा और बसपा को मिले कुल वोटों 326316 वोटों से 110220 वोट ज्यादा प्राप्त किये थे। यही कारण था कि उन्हे 5 जुलाई 2016 को NDA सरकार की सबसे युवा मंत्री बनाया गया। अनुप्रिया को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री का पद मिला। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्हे मिजार्पुर और प्रतापगढ़ में सफलता मिली जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने 11 में से 9 सीटों पर जीत हासिल की। 2018 में उनके पति एवं पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष आशीष पटेल विधान परिषद सदस्य के तौर पर मनोनीति किये गये। 2019 के लोकसभा चुनाव में अपना दल (एस) को मिजार्पुर और सोनभद्र में जीत मिली।

वहीं हाल ही में हुए जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में अनुप्रिया की पार्टी को दो सीटे सोनभद्र और जौनपुर मिली थी। सोनभद्र में इनको सफलता हांसिल मिली है। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले कैबिनेट विस्तार में अनुप्रिया को मंत्रीमंडल में जगह मिलना एक बड़े समींकरण का हिस्सा है। आगामीं यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव में OBC के बड़े चेहरे के रुप में BJP अनुप्रिया पटेल को दिखायेगी। वहीं भौगोलिक दृष्टि से देखें तो मिर्जापुर, सोनभद्र के साथ-साथ जौनपुर के इलाके में 0BC मतदातोओं को BJP अपनी ओर खींचने का प्रयास करेगी।   

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads