Home Breaking News स्वामी विवेकानंद की जयंती पर कई राजनेताओं ने देशवासियों को दी शुभकामनाएं

स्वामी विवेकानंद की जयंती पर कई राजनेताओं ने देशवासियों को दी शुभकामनाएं

1 min read
0
7

स्वामी विवेकानंद की जयंती को पूरा देश आज राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मना रहा है। इस मौके पर पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी समेत कई राजनेताओं ने उन्होंने याद किया।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा स्वामी विवेकानंद को उनकी जयंती पर कोटि-कोटि नमन। इस विवेकानंद जयंती ने, NaMo App पर एक रचनात्मक प्रयास किया, जिससे आप अपने विचारों और एक व्यक्तिगत संदेश को साझा कर सकते हैं। आइए हम स्वामी विवेकानंद के गतिशील विचारों और आदर्शों को दूर-दूर तक फैलाएं!

इस मौके पर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट में स्वामी विवेकानंद को याद करते हुए लिखा है कि, “महान नेता स्वामी विवेकानंद को उनकी जयंती पर याद करते हुए। मैं स्वामी जी की शिक्षाओं को नमन करती हूं। शांति और सार्वभौमिक भाईचारे का उनका संदेश आज अत्यंत प्रासंगिक है और हम सभी को अपने प्रिय राष्ट्र में इन आदर्शों की रक्षा के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है।”

गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस मौके पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं। बता दें कि बीजेपी विवेकानंद की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मना रही है। शाह ने ट्वीट कर कहा, “भारत के ज्ञान, संस्कृति और दर्शन को विश्वभर में दिग्विजय कराने वाले स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन व देशवासियों को “युवा दिवस” की शुभकामनाएं। स्वामी जी के प्रगतिशील व प्रेरक विचारों को आत्मसात कर देश के युवा भारत को पुनः विश्व शिखर पर पहुंचा सकते हैं।”

इसके अलावा यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस पर ट्वीट कर शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने ट्वीट कर कहा, “स्वामी विवेकानंद जयंती व ‘राष्ट्रीय युवा दिवस’ की सबको हार्दिक शुभकामनाएं। आज प्रदेश भर में युवाओं से जुड़े बेरोजगारी, शैक्षिक समस्याओं, युवतियों की सुरक्षा व अन्य मुद्दों पर सपा आयोजित कर रही है ‘युवा घेरा’ ,आह्वान है युवतियाँ-युवक बढ़चढ़कर हिस्सा लें!”

स्वामी विवेकानन्द वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में साल 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था।

भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण वेदान्त दर्शन अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द की वक्तृता के कारण ही पहुंचा था। भारत में विवेकानंद को एक देशभक्त संत के रूप में माना जाता है और इनके जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Load More In Breaking News
Comments are closed.