1. हिन्दी समाचार
  2. business news
  3. नौकरी करने वाले जान लें ये अहम बात, अगर शादी के बाद नहीं किए ये काम तो अटक जाएगा आपका पेंशन का पैसा

नौकरी करने वाले जान लें ये अहम बात, अगर शादी के बाद नहीं किए ये काम तो अटक जाएगा आपका पेंशन का पैसा

भविष्य निधि (Provident Fund) कोष, एक ऐसा कोष होता है जिसमें सर्विस करने वाले व्यक्तियों के सैलरी का एक हिस्सा इस कोष में जमा किया जाता है। जिसे उनके रिटायरमेंट या आकस्मिक निधन के बाद उनके परिवार को दी जाती है। जो ऐसी परिस्थिति में उनके लिए काफी राहतभरा रहता है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : भविष्य निधि (Provident Fund) कोष, एक ऐसा कोष होता है जिसमें सर्विस करने वाले व्यक्तियों के सैलरी का एक हिस्सा इस कोष में जमा किया जाता है। जिसे उनके रिटायरमेंट या आकस्मिक निधन के बाद उनके परिवार को दी जाती है। जो ऐसी परिस्थिति में उनके लिए काफी राहतभरा रहता है। हालांकि, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के नियमों के अनुसार, अगर ईपीएफ ग्राहक नॉमिनेशन पेपर फाइल करते हैं तो परिवारों को इसका लाभ मिल सकता है। वहीं एक गलती से परिवार के लिए सभी ईपीएफओ लाभों का नुकसान भी हो सकता है। यहां हम एक नियम की व्याख्या करते हैं जो सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) योजना 1952 के अनुसार, EPF-EPS खाताधारक की शादी हो जाने के बाद EPF और EPS खाते का नामांकन अमान्य हो जाता है। इसलिए, एक बार जब खाताधारक की शादी हो जाती है, तो उसे EPF-EPS खाते में अपने नॉमिनी को फिर से नॉमिनेट करना चाहिए। पुरुष के मामले में, यह अनिवार्य है कि नॉमिनी उसकी पत्नी होगी जबकि महिला के मामले में पति नॉमिनी होगा।

शादी के बाद रद्द हो जाता है नॉमिनेशन

अगर ईपीएफ-ईपीएस खाताधारक शादी के बाद किसी को नामांकित करने में विफल रहते हैं और बाद में सर्विस के दौरान मृत्यु हो जाती है तो नामांकित व्यक्ति के अभाव में पत्नी या अन्य सही उत्तराधिकारियों को ईपीएफ दावा स्वचालित रूप से प्राप्त नहीं होगा।

नियमों के अनुसार, अगर EPF के सदस्य का कोई पारिवारिक सदस्य नहीं है तो वह किसी भी व्यक्ति को नॉमिनेट कर सकता है। लेकिन, शादी के बाद नॉमिनेशन अमान्य हो जाएगा। EPF स्कीम के तहत अगर कोई नॉमिनेशन नहीं किया गया है तो फंड में जमा हुई पूरी रकम परिवार के सदस्यों में बराबर-बराबर बांट दी जाएगी। अगर व्यक्ति शादीशुदा नहीं है तो रकम आश्रित माता-पिता को दी जाएगी।

EPF/EPS में ई-नॉमिनेशन करने का तरीका:-

आप ऑनलाइन नॉमिनेशन फाइल कर सकते हैं। ईपीएफओ सदस्यों के लिए नॉमिनेशन फाइल करना बहुत जरूरी होता है।

सबसे पहले EPFO की ऑफिशियल वेबसाइट https://www.epfindia.gov.in/ पर जाएं।

‘Services’ विकल्प पर क्लिक करें और उसके तहत ‘For Employees’ विकल्प पर क्लिक करें।

आपको एक नए पेज पर रीडायरेक्ट किया जाएगा, फिर ‘Member UAN/Online Service’ विकल्प पर क्लिक करें।

Manage Tab के तहत E-Nomination को सेलेक्ट करें। ऐसा करने से स्क्रीन पर Provide Details टैब सामने आएगा, फिर Save पर क्लिक करें।

अब फैमिली डेक्लेयरेशन के लिए Yes पर क्लिक करें, फिर Add family details पर क्लिक करें।

यहां कुल अमाउंट शेयर के लिए Nomination Details पर क्लिक करें, फिर Save EPF Nomination पर क्लिक करें।

आगे OTP जेनरेट करने के लिए E-sign पर क्लिक करें, अब आधार में लिंक्ड पंजीकृत मोबाइल नंबर पर आया ओटीपी डालें।

ऐसा करते ही आपको ई-नॉमिनेशन EPFO के साथ पंजीकृत हो जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...