Home विचार पेज बढ़ती हुई आबादी पर नियंत्रण जरुरी है वरना साधन सीमित रह जाएंगे, पढ़े

बढ़ती हुई आबादी पर नियंत्रण जरुरी है वरना साधन सीमित रह जाएंगे, पढ़े

0 second read
0
3

{ श्री अचल सागर जी महाराज की कलम से }

इस संसार की रचना स्वयं ईश्वर ने की है और संसार का पालन भी वहीं करते है। वो हर समय इस संसार की चिंता करते है और उनके सहकर्मी भी इस संसार के संचालन में उनका साथ देते है और अपने अपने योगदान से पृथ्वी को धन्य करते है।

ईश्वर अपने कार्य में कभी भी शिथिलता नहीं आने देते है वही सभी देवता भी उनकी आज्ञा से अपना अपना कार्य करते है। चाहे अग्निदेव हो, वरुणदेव हो या पवन देव हो सबका कार्य समय समय पर और अच्छे से होता है। अगर ऐसा नहीं हो तो संसार कैसे चलेगा ?

जब पृथ्वी पर कोई भी चीज़ अनियमित हो जाती है उसे नियमित करना उसे अच्छे से आता है। ईश्वर अपनी किसी भी अपनी व्यवस्था में विघ्न नहीं पड़ने देता है। कोई भी देव उनके आदेश की अवहेलना नहीं कर सकता है।

वहां पृथ्वी लोक की तरह सरकारें नहीं है बल्कि कार्यकुशलता है। अगर देखा जाए तो ईश्वर सबकी चिंता करता है इसलिए ही उसने सबको बुद्धि दी है ताकि वो अच्छे निर्णय ले सके वरना ईश्वर तो क्षण भर में सृष्टि को नष्ट कर सकता है।

अगर आज देखा जाए तो मनुष्य को अपनी बुद्धि से सोचना चाहिए की क्या बढ़ती हुई आबादी उसके लिए लाभदायक है ? उत्तर आएगा नहीं ! लेकिन उसके बाद भी उस पर ना ही कोई काम होता है और ना ही कानून आता है, ऐसा क्यों है ?

इस पूरी दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती हुई आबादी भारत की है और हमारे पास जमीन, पानी सब कम पड़ते जा रहे है। लोगों के रहने के लिए जंगल तक काटे जा रहे है। अगर आप जंगल में रहेंगे तो जानवर किधर जाए ?

इसलिए सबको बुद्धि से विचार कर इस पर काम करना चाहिए और जल्द से जल्द इस पर कानून बनाना चाहिए।

Load More In विचार पेज
Comments are closed.