Home विदेश लंदन से वियतनाम की 10 घंटे की फ्लाइट में कोरोना संक्रमित महिला ने 15 लोगों को किया संक्रमित

लंदन से वियतनाम की 10 घंटे की फ्लाइट में कोरोना संक्रमित महिला ने 15 लोगों को किया संक्रमित

4 second read
0
0

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (CDC) ने एक स्टडी के दौरान यह जानकारी हासिल की है. रिपोर्ट से पता चलता है कि कैसे 27 वर्षीय अज्ञात महिला ने मार्च में कैसे अनजाने में वायरस फैलाया. उड़ान भरने से पहले उसके गले में खराश थी और 12 बिजनेस क्लास (Business Class) के यात्री संक्रमित हुए. इसके अलावा 2 यात्री इकोनोमी क्लास में भी संक्रमित पाए गए. 1 क्रू मेम्बर भी पॉजिटिव हो गया. फ्लाइट में कुल 217 यात्री थे.

इस महिला यात्री को फ्लाइट में उड़ान भरने से पहले ही गले में खराश की समस्या थी. एक दिन बाद यह 27 वर्षीय महिला कोरोना संक्रमित पाई गई थी. डेली मेल में फ्लाइट में SARS-CoV-2 के ट्रांसमिशन पर कुछ रिसर्च रिपोर्ट्स छपी है.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार यूएस में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 2 लाख होने वाली है. हालांकि वास्तविक आंकड़ा इससे ज्यादा भी हो सकता है. वायरस से 6.7 अमेरिकी संक्रमित हुए हैं. 11 हजार लोगों को प्लेन से संक्रमण मिला है.

लम्बी उड़ानों के दौरान SARS-Cov-2 ऑन बोर्ड ट्रांसमिशन का खतरा ज्यादा है. कोविड 19 के क्लस्टर भी पैदा करने की क्षमता होती है. बिजनेस क्लास में उचित दूरी को परिभाषित करते हुए बैठने की व्यवस्था की गई.

ज्यादातर वायरस और रोगाणु प्लेन में नहीं फैलते क्योंकि हवा फिल्टर होकर सर्कुलेट होती है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि फ्लाइट में लम्बे समय तक बैठने के दौरान छह फीट की दूरी बना पाना मुश्किल होता है. इससे कोरोना वायरस संक्रमण के आसार बढ़ जाते हैं.

वियतनाम के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ इपिडोमोलोजी के अनुसार इंटरनेशनल फ्लाइट इण्डस्ट्री ने प्लेन में संक्रमण का खतरा कम माना है, लम्बी दूरी की लाइट्स से चिंताएं बढ़ी है क्योंकि कई देशों ने फ्लाइट्स पर लगी पाबंदियों को हटाने का निर्णय लिया है लेकिन SARS-CoV-2 ट्रांसमिशन का खतरा बना हुआ है.

यूएस ने एक दिन में एक मिलियन कोरोना वायरस टेस्ट शनिवार की किये थे लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार 6 से 10 मिलियन टेस्ट होने चाहिए. वायरस लगातार बढ़ रहा है और फ़िलहाल इसकी कोई वैक्सीन नहीं आई है.

कुछ विशेषज्ञों को डर है कि सर्दी में वायरस फैलने से मृत्यु दर डबल हो सकती है. डोनाल्ड ट्रम्प ने मार्च में कहा था कि जिसे भी टेस्ट कराना है, उसे टेस्ट मिलेगा लेकिन यह लक्ष्य अमेरिका ने प्राप्त नहीं किया है. मई में वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी ने 1 लाख 80 हजार मौतें अक्टूबर तक होने का अनुमान लगाया था लेकिन अब यह आंकड़ा 3 लाख 78 हजार को पार कर सकता है.

Load More In विदेश
Comments are closed.