Home विदेश चीन अमेरिकी प्रतिबंध के बावजूद ईरान से सौदे के लिए नेपाली बैंकों और कंपनियों का कर रहा प्रयोग

चीन अमेरिकी प्रतिबंध के बावजूद ईरान से सौदे के लिए नेपाली बैंकों और कंपनियों का कर रहा प्रयोग

2 second read
0
3

कुछ नेपाली बैंक और कंपनियां अमेरिकी प्रतिबंध को चकमा देकर ईरान और चीन के बीच व्यापार कराने में जुटी हैं। अमेरिका में वित्तीय लेनदेन सिस्टम की निगरानी करने वाली सरकारी संस्था ‘फाइनेंशल क्राइम इंफोर्समेंट नेटवर्क’ के शीर्ष गुप्त दस्तावेज के आधार पर तैयार रिपोर्ट को ‘फिनसेन फाइल्स’ नाम दिया गया है।

‘सेंटर फॉर इंवेस्टिगेशन जर्नलिज्म’ (सीजेआई) नेपाल, ‘इंटरनेशनल कंस्टोर्डियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स’ (आईसीआईजे) और बजफीड की संयुक्त खोजबीन में पता चला है कि नेपाल के कुछ बैंक और कंपनियां विदेशों से संदिग्ध रूप से प्राप्त धन को हस्तांतरित कर रही हैं।

‘फिनसेन फाइल्स’ के मुताबिक, दिसंबर 2006 और मार्च 2017 के बीच नेपाल में 9 बैंक, 10 कंपनियों और कई व्यक्तियों ने सीमा पार व्यापार के नाम पर कई संदिग्ध लेनदेन किए। नेपाल पर जारी 25 पेज की रिपोर्ट में कहा गया है, नेपाल की कुछ इकाइयां सोने, पुराने सामान, बिटुमन, टेलिकम्युनिकेशन उपकरण की तस्करी में जुटी हैं।

चार्टर्ड फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, प्राइम बिजनेस फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन ऑफ काठमांडू, नेपाल फंडिंग फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, एवरेस्ट फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, मेगा फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, हिमालयन फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट, कास्की की एपेक्स ग्रोथ फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट और नेपाल बांग्लादेश फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट आदि इस लिस्ट में शामिल हैं, जो संदिग्ध रूप से पैसे ट्रांसफर करने में जुटे हैं।

इन कंपनियों में राउनियर ब्रदर्स एंड कंपनी, शुभ समृद्धि ट्रेडर्स प्राइवेट लिमिटेड, शासता ट्रेडिंग कंपनी, सेतीदेवी एक्सपोर्ट इंपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड, वूमन्स पेपर क्राफ्ट, एकमी मनी ट्रांसफर सर्विस और सन्नी एंटरप्राइजेज शामिल हैं, जो संदिग्ध सीमा पार लेनदेन कर रही हैं।

इन कंपनियों में से राउनियर ब्रदर्स एंड कंपनी, शुभ समृद्धि ट्रेडर्स प्राइवेट लिमिटेड पारसा जिले की हैं और इसने कथित तौर पर दुबई की एक कंपनी ‘काइट इंटरनेशनल एफजेडई’ से लेनदेन किया, जिसका मुख्य कारोबार पेट्रोलियम उत्पादों जैसे बिटुमेन, तेल आदि का आयात-निर्यात है।

इन बैंकों और कंपनियों के जरिए पिछले 11 सालों में 292.7 मिलियन डॉलर का लेन-देन हुआ।

 

Load More In विदेश
Comments are closed.