1. हिन्दी समाचार
  2. Breaking News
  3. चारा घोटाला के मामले में लालू यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई 11 दिसंबर तक टली

चारा घोटाला के मामले में लालू यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई 11 दिसंबर तक टली

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

साढ़े नौ सौ करोड़ रुपये के चारा घोटाले के मामले में आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव को कुछ दिन और जेल में ही रहना पड़ेगा। अब इस मामले पर 11 दिसंबर को सुनवाई होगी।

इस मामले में लालू को 14 वर्ष तक की कैद की सजा सुनाई गयी थी और इस समय उनका रांची स्थित राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में इलाज चल रहा है। लालू प्रसाद की ओर से उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल दलील रख रहे हैं।

दुमका कोषागार से गबन के मामले में आज उनकी जमानत याचिका पर हुई सुनवाई कोर्ट ने टाल दी। झारखंड हाईकोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान लालू यादव की जमानत पर फैसला होना था।

जिसके बाद उनके जेल से निकलने के कयास लगाए जा रहे थे। चारा घोटाले के इस मामले की सुनवाई वर्चुअल तरीके से हुई। लालू के वकील प्रभात कुमार ने वर्चुअली अपना पक्ष रखा। लालू की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल भी पक्ष रख रहे थे। वहीं, सीबीआई ने भी सुनवाई के दौरान अपना पक्ष रखा।

झारखंड राजद की प्रदेश अध्यक्ष स्मिता लकड़ा ने आरजेडी सुप्रीमो की जमानत पर हुई सुनवाई 11 दिसंबर तक टाले जाने की जानकारी दी। राजद के नेताओं में सुनवाई टलने से मायूसी साफ देखी जा रही थी।

आपको बता दें कि दुमका कोषागार मामले में आज जमानत के बाद लालू यादव की जेल से रिहाई के कयास लगाए जा रहे थे। इसको लेकर रांची से पटना तक की सियासत में चर्चाएं चल रही थीं। लेकिन हाईकोर्ट के फैसले के लिए अब राजद समेत अन्य दलों के नेताओं को 11 दिसंबर तक का इंतजार करना पड़ेगा।

इससे पूर्व इस मामले में 24 नवंबर को दाखिल अपने जवाब में केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने दावा किया था कि वास्तव में लालू प्रसाद ने दुमका कोषागार से गबन के मामले में अब तक एक दिन की भी सजा नहीं काटी है।

लिहाजा उन्हें इस मामले में अभी जमानत देने का कोई भी पुख्ता आधार नहीं बनता है जबकि लालू के वकीलों ने दावा किया है कि लालू ने इस मामले में अपनी आधी सजा न्यायिक हिरासत में पूरी कर ली है।

चारा घोटाले के दुमका मामले में लालू को विशेष सीबीआई अदालत ने चौदह वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनायी थी। उन्हें चार मामलों में से तीन में पहले ही जमानत मिल चुकी है।

सीबीआई ने अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 427 का उल्लेख करते हुए अपने जवाब में कहा है कि लालू को अब तक चारा घोटाले के चार विभिन्न मामलों में सीबीआई अदालतों ने सजा सुनायी है और दुमका मामले में उन्हें चौदह वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनायी गयी है।

सीबीआई की विशेष अदालत ने अपने आदेश में कहीं भी इस बात का उल्लेख नहीं किया है कि लालू को दुमका मामले में मिली सजा उन्हें चारा घोटाले के अन्य मामलों में मिली सजा के साथ ही चलेगी और अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 427 के तहत सजा देने वाली अदालत के ऐसा उल्लेख न करने पर अभियुक्त की सजाएं एक के बाद एक क्रमवार चलती हैं।

सीबीआई ने शुक्रवार को अपने जवाब में यह भी कहा कि लालू ने स्वयं सीबीआई की विशेष अदालत के समक्ष अपनी सजाओं को एक साथ चलाने का कोई अनुरोध नहीं किया था।

दुमका मामले में छह नवंबर को सुनवाई प्रारंभ होते ही सीबीआई ने कहा था कि इस मामले में लालू के आधी से अधिक सजा पूरी कर लेने के दावे एवं अन्य दावों के बारे में वह लिखित रूप से अपना पक्ष रखेगी जिसके लिए उसे समय दिया जाये।

हालांकि सीबीआई के इस कथन पर लालू के वकील सिब्बल ने दिल्ली से डिजिटल तरीके से उच्च न्यायालय के समक्ष दलील दी थी सीबीआई जानबूझकर अनावश्यक रूप से लालू की जमानत के इस मामले में विलंब कर रही है।

सिब्बल ने दावा किया था कि लालू ने दुमका कोषागार से जुड़े चारा घोटाले के इस मामले में छह नवंबर को हुई सुनवाई के दिन तक कुल 42 माह 26 दिनों की सजा काट ली थी जो लालू को दी गयी सात वर्ष की सजा के आधे समय से अधिक है।

सिब्बल ने कहा कि ऐसे में उच्च न्यायालय को उन्हें जमानत देनी चाहिए। सीबीआई का पक्ष सुनने के बाद झारखंड उच्च न्यायालय ने लालू की जमातन की याचिका पर सुनवाई 27 नवंबर तक के लिए टाल दी थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...