Home विदेश दुबई में रमजान ना रखने वाले को सरकार का बड़ा तोहफा, किया ये ऐलान

दुबई में रमजान ना रखने वाले को सरकार का बड़ा तोहफा, किया ये ऐलान

1 second read
0
82

नई दिल्ली : दुनिया भर के मुसलमान 14 अप्रैल से रोजा रखेंगे, जिसे लेकर वो अभी से ही सभी तरह के कवायद में जुट गये है। आपको बता दें कि इस पावन महीने में एक तरफ जहां लोग एक-दूसरे को रमजान मुबारक या रमजान करीम बोलकर अभिवादन करते हैं, तो वहीं कई देशों में रमजान के दौरान रेस्टोरेंट बंद कर दिए जाते हैं। इसमें दुबई भी शामिल है जहां रमजान के दौरान रेस्टोरेंट पर पर्दा डाल दिए जाते हैं। लेकिन दुबई ने अब इस नियम में बड़ा बदलाव का ऐलान किया है।

दरअसल, दुबई में लंबे समय से चली आ रही उस अनिवार्यता को खत्म करने की दिशा में कदम उठाया गया है जिसमें रमजान पर रेस्टोरेंट को दिन में परदों से ढंकना जरूरी होता आया है। आपको बता दें कि रोजा रखने वाले लोगों के लिहाज से रमजान में रेस्टोरेंट्स में पर्दे लगा दिए जाते थे। बहरहाल, दुबई के इकोनॉमिक डेवलेपमेंट डिपार्टमेंट ने 11 अप्रैल को पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से अब इस पावन महीने में भी रेस्टोरेंट को खोले रहने का ऐलान किया है।

सरकारी समाचार एजेंसी WAM के मुताबिक, रेस्टोरेंट अपने यहां पर्दे आदि लगाए बिना ही ग्राहकों को भोजन परोस सकेंगे। नया आदेश पहले के वर्षों में जारी उन आदेशों का स्थान ले लेगा जिनके तहत रोजा रखने वालों की खातिर खानपान वाले हिस्सों को ढंकना अनिवार्य होता था।

नए नियमों के अंतर्गत दिन के वक्त भोजन परोसने के लिए अब रेस्तरां को पहले की तरह विशेष परमिट लेने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। वैसे खाड़ी के अरब देशों में रमजान के दौरान सार्वजनिक तौर पर खाने पीने पर जुर्माने लगाए जाते हैं और ऐसा करने वाला आदमी कानूनी पचड़ों में भी फंस सकता है। हालांकि, दुबई पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नियमों में बदलाव कर रहा है, जो पर्यटकों के लिए काफी राहत भरा कदम माना जा रहा है।

आपको बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात के सात शेखों में से एक दुबई गगनचुंबी इमारतों, समुद्री तटों, खरीदारी और पार्टी के इच्छुक लोगों के लिए लंबे समय से पसंदीदा पर्यटन स्थल है। हालांकि, रमजान के दौरान पाबंदियों के चलते पर्यटकों की संख्या में कमी देखी जाती है। लेकिन दुबई सरकार के इस ऐलान के बाद एक बार फिर रमजान के पाक महीने में भी पर्यटकों की भारी भीड़ देखी जा सकती है।

खबरों की मानें तो दुबई सरकार द्वारा यह कदम कोरोना महामारी के कारण अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले संकट से उबरने के लिए किया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुबई में दो दशकों में पर्यटकों की संख्या में 76 फीसदी वृद्धि का अनुमान जाहिर किया गया था। इसके मुताबिक, दुबई का लक्ष्य समुद्र तट की क्षमता को 400 प्रतिशत तक बढ़ाना, होटलों की संख्या को दोगुना करना, रेगिस्तान के हरे भरे स्थान, जो हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करते हैं, उनका विस्तार करना है।

Load More In विदेश
Comments are closed.