Home देश जम्मू-कश्मीर के त्राल में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, धार्मिक स्थल में छिपकर बड़े षड्यंत्र का संदेह, दो ढेर

जम्मू-कश्मीर के त्राल में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, धार्मिक स्थल में छिपकर बड़े षड्यंत्र का संदेह, दो ढेर

2 second read
0
120

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर में गुरूवार शाम से छिड़ा आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ अभी भी जारी है, जिसमें दो आतंकी ढेर हो गये है। वहीं शेष आतंकियों के गिरफ्तारी के लिए इलाकों को चारों तरफ से घेर लिया गया है। आपको बता दें कि यह अवंतीपोरा के त्राल में हो रहा है, जिसमें तीन जवान घायल हो गये है। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एक जवान की हालत गंभीर बताई जा रही है।

खबरों की मानें को आतंकी एक धार्मिक स्थल में छिपे है, जहां से वो किसी बड़े षड्यंत्र को अंजाम देने वाले थे। जिसकी भनक सुरक्षाबलों को लग गई और उन्होंने देर शाम से ही इलाकों में छानबीन शुरू कर दिया। इस दौरान सुरक्षाबलों ने स्थानीय लोगों की मदद से आतंकवादियों को बाहर आने और आत्मसमर्पण करने के प्रयास किए। एक आतंकी के भाई व स्थानीय इमाम साहब को अंदर भेजा गया। लेकिन आतंकी आत्मसमर्पण के लिए राजी नहीं हुए।

इस पर आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग की। सुरक्षाबलों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया। आईजी कश्मीर का कहना है कि त्राल मुठभेड़ में अब तक दो आतंकी मारे गए हैं। वहीं दूसरी तरफ, इस्लामिक स्टेट जम्मू-कश्मीर आतंकी संगठन का पकड़ा गया कमांडर मलिक उमैद अपने हैंडलर से व्हाट्सएप कॉल के माध्यम से संपर्क में था। कश्मीर में मौजूद आतंकियों ने ही उसे हथियार लेने जम्मू भेजा था।

कश्मीर में मौजूद और पाकिस्तान में बैठे आतंकियों के कहने पर उसने ऐसा किया था। उमैद से पूछताछ करने पर यह पता चला है कि जम्मू बस स्टैंड पर एक व्यक्ति ने उसे हथियार और नकदी दी थी। यह व्यक्ति जम्मू-कश्मीर के बाहर का भी हो सकता है। उक्त व्यक्ति की तलाश में पुलिस पंजाब सहित अन्य राज्यों में भी दबिश देकर तलाश कर रही है। लेकिन अभी तक उसका पता नहीं चला है।

पुलिस ने उमैद से उक्त व्यक्ति का स्केच बनवाकर कई जगहों पर भेजा है, ताकि उसकी पहचान की जा सके। सूत्रों का कहना है कि पुलिस इस मामले में शामिल कुछ और लोगों को भी पकड़ने की तैयारी में है। इनकी पहचान कर ली गई है। तीन से चार दिन में पुलिस इस मामले में अधिकारिक तौर पर बड़ा खुलासा कर सकती है। कुछ जगहों पर ओजी वर्करों के पकड़े जाने और उनसे हथियारों की बरामदगी करने की तैयारी है। डीएसपी परोपकार सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही पूरे मामले की जांच का खुलासा करेंगे।

सूत्रों की मानें तो ये आतंकी पहले किसी घर में छिपे हुए थे, लेकिन सुरक्षाबलों द्वारा घिरे जाने के बाद वे पास के ही एक ही धार्मिक स्थल में छिप गये, जिस धार्मिक स्थल को घेरकर जवान लगातार आतंकियों को सरेंडर करने को कह रहे है। वहीं खबरों की मानें तो आतंकी इस इलाके में छिपकर किसी बड़े षड्यंत्र की साजिश कर रहे थे, जिसे सुरक्षाबलों ने नाकामयाब कर दिया।

Load More In देश
Comments are closed.